अकबर बेदखल!

‘मी टू’ कैंपेन के वायरल होने का सबसे बड़ा झटका केंद्र की भाजपा सरकार को लगा है। इसके मंत्री एम.जे.अकबर रोज-ब-रोज के आरोपों में बुरी तरह से घिरते जा रहे हैं। हालत ऐसे हो गए हैं कि केंद्र सरकार के मंत्रियों को इस पर जवाब देते नहीं बन पड़ रहा है और वे मीडिया से बचने की कोशिश करते नजर आ रहे हैं। खबर है कि भाजपा के अंदर खाने में इसको लेकर जोरदार हलचल मची हुई है और कभी भी अकबर के मंत्री पद से बेदखल  होने की खबर आ सकती है। अगर ऐसा होता है तो यह भाजपा सरकार के साढ़े चार साल के शासन में किसी मंत्री के बीच में ही इस तरह रुसवा होकर बेदखल होने का पहला मामला होगा।
पिछले तीन-चार दिनों में ‘मी टू’ के तहत कुछ महिला पत्रकारों ने अकबर पर आरोपों की झड़ी लगा दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अभी तक ९ महिला अकबर पर आरोप लगा चुकी हैं और इस लिस्ट के और बढ़ने के आसार हैं। ऐसे में मोदी सरकार के हाथ-पांव फूल गए हैं। अकबर इन दिनों नाइजीरिया के दौरे पर हैं। इस बात की चर्चा है कि नई दिल्ली पहुंचते ही अकबर से जवाब तलब किया जाएगा और उन्हें इस्तीफा देने के लिए कहा जाएगा। नोटबंदी, जीएसटी और राफेल के लफड़े में उलझी मोदी सरकार के गले में ‘मी टू’ का यह नया कांटा अटक गया है। ५ राज्यों के चुनावों की गर्मी शुरू हो चुकी है और लोकसभा का चुनाव भी ज्यादा दूर नहीं है। ऐसे में सरकार अपनी छवि को लेकर काफी चिंतित है। यही वजह है कि अकबर की मंत्रिमंडल से छुट्टी तय मानी जा रही है।
अकबर को बीच दौरे से लौटने का फरमान!
मी टू कैंपेन के तहत केंद्रीय मंत्री एम.जे. अकबर पर अब तक ९ महिलाएं आरोप लगा चुकी हैं। सूत्रों के अनुसार अकबर पर लगे आरोप से भाजपा सांसत में है और उन पर सरकार जल्द बड़ा फैसला ले सकती है। उन्हें मंत्री पद से इस्तीफा देने और पार्टी के लिए काम करने को कहा जा सकता है। अकबर फिलहाल नाइजीरिया की यात्रा पर हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि सरकार ने अकबर से नाइजीरिया दौरा बीच में छोड़कर देश लौटने को कहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस मामले को लेकर गंभीर हैं। भाजपा के नेताओं का भी कहना है कि महिलाओं से जुड़े मामलों पर पार्टी की छवि हमेशा अच्छी रही है और पार्टी इस अच्छी छवि को बनाए रखना चाहती है।
अकबर के बारे में एक पत्रिका की कार्यकारी संपादक ने १९९७ के एक वाकये का जिक्र करते हुए एक ब्लॉग में अकबर पर आरोप लगाए हैं। एशियन एज और अन्य अखबारों की महिला पत्रकारों ने भी अकबर पर ऐसे ही आरोप लगाए हैं। बता दें कि मी टू का यह कैंपेन पसरता ही जा रहा है और इसमें फिल्म इंडस्ट्री, मीडिया, क्रिकेट व राजनीति से जुड़ी हस्तियां इसके लपेटे में आती जा रही हैं। इसमें सबसे हैरान करनेवाले आरोप अकबर पर लग रहे हैं क्योंकि वे मोदी सरकार में मंत्री हैं। इस मी टू लिस्ट ने बॉलीवुड को बुरी तरह अपनी चपेट में ले लिया है। सबसे बड़ा झटका संस्कारी बाबू जी आलोकनाथ पर लगे आरोप हैं जिन पर कई अभिनेत्रियों ने बरसों पहले शराब के नशे में अश्लील हरकत और रेप करने तक जैसे आरोप मढ़े हैं। आलोकनाथ की फिलहाल तबीयत खराब बताई जा रही है और कहा जा रहा है कि ठीक होते ही वे अपना पक्ष रखेंगे।