" /> अखाड़े का योगी

अखाड़े का योगी

क्या आप जानते हैं अखाड़े का योगी कौन है? रेसलर योगेश्वर दत्त। जी हां,  हिन्दुस्थान के उन चुनिंदा पहलवानों में से एक हैं जिन्होंने ओलंपिक में देश का नाम गौरांवित किया है। हरियाणा के सोनीपत जिले के एक छोटे से गांव बैंसवाल कलां से ताल्लुक रखने वाले योगेश्वर को प्यार से ‘योगी’ या फिर ‘पहलवान जी’ के नाम से पुकारा जाता है। योगेश्वर के करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि रही लंदन २०१२ ओलंपिक में देश के लिए ब्रॉन्ज़ मेडल जीतना। लेकिन प्रâीस्टाइल रेसलर ने जो आज पहलवानी में खास मुकाम हासिल किया है उसके पीछे उनकी काफी मेहनत और जद्दोजहद छुपी हुई है। योगेश्वर का जीवन अपने आपमें एक मिसाल है। घर में वो अपने हाथों से काम करते हैं और बाहर बिलकुल सामान्य जीवन। रास्ते में यदि भुट्टो का ठेला दिख जाए तो उतर कर भुट्टा खरीद और वहीं खाने में संकोच नहीं करते। योगी का अपना अलग तरीके का जीवन है जो आम लोगों के लिए प्रेरणदायी है। योगी सोशल मीडिया पर उन बातों का जिक्र करते हैं जो जीवन दर्शन और अध्यात्म के प्रति रूचि पैदा करता है। अपनी हर पोस्ट पर एक न एक ऐसा वाक्य लिखते हैं जो जीवन को दर्शाए। योगेश्वर ने अपनी भुट्टे खाती एक तस्वीर पोस्ट करते हुए नीचे लिखा- ‘बुरा समय आपको आपके जीवन के उन सत्यों से सामना कराता है, जिनकी आपने अच्छे समय में कभी कल्पना भी नहीं की होती। जय श्री राम।’ ऐसा है योगी का कमाल।