" /> अगले सप्ताह होगा होटलों को खोलने पर निर्णय- अजीत पवार

अगले सप्ताह होगा होटलों को खोलने पर निर्णय- अजीत पवार

पिंपरी-चिंचवड़ सहित राज्य में होटल व्यवसाय को शुरू करने का मुद्दा पूर्व नगरसेवक जगदीश शेट्टी ने अजीत पवार के समक्ष उपस्थित किया और बताया कि पिंपरी-चिंचवड़ में होटल व्यवसाय मुश्किल में है। इस पर उपमुख्यमंत्री ने कहा कि इस मुद्दे को हल करने के लिए मुंबई में एक बैठक होटल एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल की आगामी मंगलवार या बुधवार को बुलाई गई है। इस बैठक में होटल व्यवसाय के संबंध में निर्णय लिया जाएगा, ऐसा पवार ने स्पष्ट किया। उन्होंने कहा कि केवल पिंपरी-चिंचवड़ शहर ही नहीं बल्कि पूरा राज्य ‘कोरोना’ के खिलाफ लड़ रहा है। इस लड़ाई को लोगों का भारी समर्थन मिल रहा है और हम सामूहिक शक्ति के बल पर कोरोना को अवश्य हराएंगे, ऐसा विश्वास उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने व्यक्त किया है। पिंपरी-चिंचवड़ मनपा की ओर से बनाए गए वॉर रूम को उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने भेंट दी और वॉर रूम की कार्यप्रणाली की जानकारी ली। इसके बाद शहर में कोरोना की परिस्थिति का जायजा लिया। इस अवसर पर मनपा आयुक्त श्रावण हर्डीकर, स्थायी समिति अध्यक्ष संतोष लोंढे, प्रतिपक्ष के नेता नाना काटे, विधायक अण्णा बनसोडे, राष्ट्रवादी कांग्रेस शहराध्यक्ष संजोग वाघेरे-पाटील, महिला शहराध्यक्ष वैशालीताई कालभोर, नगरसेवक राजू मिसाल, पालिका कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष अंबर चिंचवडे, पालिका व वाईसीएम अधिकारी आदि उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि कोरोना से घबराने का कोई कारण नहीं है। हम कोरोना को दूर कर सकते हैं यदि हम अपना ख्याल रखें और स्वच्छता बनाए रखते हुए सरकार द्वारा निर्धारित नियमों का पालन करें। यह समय राजनीति करने का नहीं है। यह समय पहले नागरिकों के हितों को प्राथमिकता देने का है। स्थिति को धीरे-धीरे बहाल करने के प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य में उद्योग शुरू करने की अनुमति है। हालांकि श्रमिकों के प्रवास के कारण कुछ कठिनाइयां हैं। इसमें समय लगेगा लेकिन स्थिति निश्चित रूप से सामान्य हो जाएगी। पुलिस, डॉक्टर, नर्स और स्वास्थ्य कार्यकर्ता अपनी जान की परवाह किए बिना कोरोना को दूर करने के लिए काम कर रहे हैं इसलिए उन्हें समर्थन देने की जरूरत है। इस लड़ाई में सभी का समर्थन और साथ आज तक मिला है। इसके आगे भी साथ को कायम रखे तो कोरोना पर विजय अवश्य मिलेगी, ऐसा पवार ने कहा। पिंपरी-चिंचवड़ में कई कंपनियां पुणे की हैं लेकिन उन्हें पुणे से पिंपरी-चिंचवड़ आने में कठिनाई हो रही है। क्या सरकार के स्तर पर कोई रास्ता है? इस पर अजीत पवार ने कहा कि इस संबंध में प्रयास किए जाएंगे और औद्योगिक एस्टेट में अन्य उद्योगपतियों और श्रमिकों के बीच कोई तत्काल रास्ता निकाला जाएगा।