" /> अनलॉक हुए बदलापुर, अंबरनाथ, उल्हासनगर से मुंबई आने-जाने वाले कोरोना  योद्धा : लॉक लगानेवाला आदेश रद्द

अनलॉक हुए बदलापुर, अंबरनाथ, उल्हासनगर से मुंबई आने-जाने वाले कोरोना  योद्धा : लॉक लगानेवाला आदेश रद्द

कोरोना संकट के दौरान कोरोना के खिलाफ जारी जंग में हिस्सा लेने के लिए कल्याण, उल्हासनगर, अंबरनाथ, बदलापुर से मुंबई जानेवाले कोरोना योद्धा अब लॉक नहीं होंगे। स्थानीय कोरोना योद्धाओं को रोकने के लिए योद्धाओं के आने-जानेवाले पर रोक लगानेवाली स्थानीय निकाय प्रमुखों के आदेश पर राज्य सरकार ने रोक लगा दी है। इससे अब जनहित में सरकारी, अर्धसरकारी, निजी व्यवसाय के सिलसिले में  कोरोना योद्धाओं का आवागमन जारी रहेगा। क्षेत्र से बाहर जाने व वापस आनेवाले कोरोना योद्धाओं के कारण क्षेत्र में कोरोना का प्रसार हो रहा है, ऐसी आशंका जताते हुए स्थानीय निकायों के प्रमुखों ने एक आदेश जारी किया था तथा क्षेत्र से बाहर आने-जाने वाले कोरोना योद्धाओं के आवाजाही पर रोक लगाई थी।
कल्याण-डोंबिवली मनपा, उल्हासनगर मनपा, अंबरनाथ नपा व बदलापुर नपा परिसर के आयुक्त  व मुख्याधिकारी ने पाया कि कोरोना के मरीज की संख्या वृद्धि में काफी ऐसे लोग हैं, जो मुंबई के अस्पताल, पुलिस, मेडिकल स्टोर आदि अत्यावश्यक सेवा में काम कर रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या पर लगाम लगाने के लिए जनता व नगरसेवकों की तरफ से  सोशल मीडिया के साथ-साथ लिखित सुझाव दिया गया कि मुंबई से कल्याण, डोंबिवली, उल्हासनगर, बदलापुर, अंबरनाथ से जानेवाले लोगों पर पूर्ण रूप से  उपर्युक्त परिसर में आने-जाने पर लॉक लगाया जाए। बताया गया कि बदलापुर से प्रतिदिन (50 बस) कल्याण, ठाणे, नई मुंबई, बेस्ट बस सेवा से हजारों लोग आते-जाते थे, जिसमें बदलापुर से 2,500 लोग बसों से तथा 500 लोग निजी साधनों से आते-जाते थे। इसी तरह से की हालत अंबरनाथ, उल्हासनगर, कल्याण, डोंबिवली की भी थी। सभी जगह पर इन दिनों जोर-शोर से कोरोना का प्रसार हो रहा है। लोगों की  मांग को देखते हुए कल्याण के आयुक्त डॉक्टर विजय सूर्यवंशी, उल्हासनगर के आयुक्त सुधाकर देशमुख, अंबरनाथ के मुख्यधिकारी देवीदास पवार व बदलापुर के मुख्याधिकारी प्रकाश बोरसे ने मुंबई की तरफ से आने-जानेवाले लोगों को मुंबई में ही रहने की सलाह देते हुए 8 मई से मुंबई से यातायात करनेवालों पर पूरी तरह से कल्याण, बदलापुर, उल्हासनगर व अंबरनाथ में आने की बंदिश लगा दिया था। इस बंदिश को सरकार के निर्णय के चलते हटा लिया गया है।