अफगानी नबी का संन्यास

अफगानिस्तान क्रिकेट के नबी ने संन्यास ले लिया है और ये वक्त भी ऐसा था जो अफगान टीम के लिए सुनहरा माना जाएगा क्योंकि उसने एकमात्र टेस्ट मैच में बांग्लादेश को हराया था। राशिद खान की अगुआई में अफगानिस्तान टीम ने बांग्लादेश को एक मात्र टेस्ट में हराकर इतिहास रच दिया। अफगानिस्तान ने बांग्लादेश को २२४ रनों से हराया। इस ऐतिहासिक जीत के साथ ही अफगानिस्तान के दिग्गज खिलाड़ी मोहम्मद नबी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। अफगानिस्तान ने क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट में कुछ समय पहले ही डेब्यू किया था और सिर्फ तीन टेस्ट मैच खेलकर नबी ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया। एकमात्र टेस्ट मैच में राशिद खान मैन ऑफ द मैच रहे, जिन्होंने अपना यह अवार्ड नबी को समर्पित किया। नबी ने तीन अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच खेले। पिछले साल जून में हिंदुस्थान के खिलाफ अफगानिस्तान ने टेस्ट क्रिकेट में कदम रखा था, जिसमें नबी ने पहली पारी में २४ रन बनाए और उसकी दूसरी पारी में डक हो गए। आयरलैंड के खिलाफ पहली पारी में नबी डक हुए थे और दूसरी पारी में सिर्फ एक रन ही बना पाए। इस मैच में उन्होंने तीन विकेट लिए थे। बांग्लादेश के खिलाफ पहली पारी में वह फिर डक हुए और दूसरी पारी में आठ रन बनाए। बांग्लादेश के खिलाफ उन्होंने चार विकेट लिए। हालांकि नबी के पास रेड बॉल क्रिकेट में खुद में और अधिक सुधार करने की गुंजाइश थी लेकिन उनकी उम्र भी ३४ के करीब हो गई है, जिसने उन्हें ऐसा कड़ा पैâसला लेने पर मजबूर किया।