" /> अब अरब सागर में तूफान! -तेज हवाओं के साथ होगी बारिश

अब अरब सागर में तूफान! -तेज हवाओं के साथ होगी बारिश

-महाराष्ट्र-गुजरात के तटीय क्षेत्र पर देगा दस्तक
-120 किलोमीटर प्रति घंटे की होगी रफ्तार

पश्चिम बंगाल में आए तूफान का शोर अभी थमा भी नहीं है कि अब अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनना शुरू हो गया है। इसके दो दिनों में महाराष्ट्र-गुजरात के तट से टकराने की उम्मीद है। इस दौरान 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी और बारिश होगी।
भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने अरब सागर के लिए दोहरे दबाव का अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के मुताबिक अरब सागर के ऊपर एक निम्न दबाव का क्षेत्र बनेगा, जो 3 जून तक गुजरात और उत्तर महाराष्ट्र के तटों की ओर बढ़ेगा। इसके अनुसार अरब सागर के ऊपर दो तूफान बन रहे हैं, जिसमें से एक अफ्रीकी तट से लगे समुद्र क्षेत्र के ऊपर है, वो ओमान और यमन की ओर बढ़ सकता है, जबकि दूसरा भारत के करीब है। इसके अगले 12 घंटों में और अधिक गहरे डिप्रेशन में बदलने की संभावना है।
तूफान की आशंका के चलते मछुआरों को समंदर किनारे न जाने की सलाह दी गई है। हालांकि, मौसम विभाग के मुताबिक इस तूफान का केंद्र ओमान के पास है, लेकिन इसका असर महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय इलाकों में होने की संभावना है। इसकी वजह से दक्षिण-मध्य गुजरात एवं सौराष्ट्र में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश की संभावना है। माना जा रहा है कि जब ये तूफान तट से टकराएगा तो उस वक्त हवा की गति 120 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है।
वहीं मौसम विभाग ने कहा कि अरब सागर के ऊपर संभावित निम्न दबाव के क्षेत्र के प्रभाव के कारण स्थितियां एक जून से केरल के ऊपर मॉनसून की शुरुआत के लिए अनुकूल होंगी। आईएमडी के अनुसार अगले 48 घंटों के दौरान दक्षिण अरब सागर, मालदीव कोमोरिन क्षेत्र, दक्षिण-पश्चिम, दक्षिण-पूर्व खाड़ी के कुछ और हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल होती जा रही हैं। आईएमडी के महानिदेशक मृत्युजंय महापात्रा ने कहा है कि केरल में मॉनसून की शुरुआत अभी नहीं हुई है। हालांकि, जल्द ही केरल में मॉनसून की शुरुआत होने की संभावना है।