अब अल्टीमेटम!!!

महाराष्ट्र के लाखों अन्नदाताओं ने सरकार को अब अल्टीमेटम दे दिया है। नासिक से १८० किलोमीटर की पैदल यात्रा करते हुए किसानों के पैर चलते-चलते पत्थर हो चुके हैं, किसी के पैरों से खून निकल रहा है तो कोई दर्द के बावजूद पैदल बढ़ रहा है, मगर अपने हक की लड़ाई के लिए ये अब थमने को तैयार नहीं हैं।
हर दिन ३० से ३५ किलोमीटर पैदल चलते हुए छह दिन बाद महाराष्ट्र के ये ३५,००० किसान कल रविवार को ठाणे पहुंच चुके हैं और अब अपनी मांगों को लेकर इन किसानों की आज सोमवार १२ मार्च को महाराष्ट्र विधानसभा घेरने की तैयारी है। गत ६ मार्च को नासिक से महाराष्ट्र के २५,००० किसानों से शुरू हुए इस आंदोलन में अब तक कई किसान संगठन शामिल हो चुके हैं और अब इनकी संख्या लगभग ३५,००० पहुंच चुकी है। इस पैदल मार्च में बड़ी संख्या में महिलाएं और आदिवासी क्षेत्र के किसान भी शामिल हैं। ऑल इंडिया किसान सभा की अगुवाई में निकले ये किसान सरकार की किसान विरोधी नीतियों से नाराज हैं और पूर्ण कर्जमाफी और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के सरकार के वादे के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। इन किसानों की मांग है कि कपास फसल में कीट लगने से हुए भारी नुकसान के साथ ओलावृष्टि से नुकसान पर सरकार हर एकड़ पर किसान को ४०,००० रुपए मुआवजा दे। इसके अलावा किसानों के बिजली बिल माफ किए जाएं।