अभिनय के साथ रोमांसका तड़का – हृषिताभट्ट

बेहद हसीन व सरल स्वभाव वाली अभिनेत्री हृषिता भट्ट ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत बॉलीवुड के ‘किंग खान’ के साथ २००१ में आई फिल्म ‘अशोका’ से की थी। अब तक वे ‘दिल विल प्यार व्यार’, `शरारत’, ‘आउट आफ कंट्रोल’, `हासिल’ और `अब तक छप्पन’ जैसी दर्जनों फिल्मों में काम कर चुकी हैं। वर्ष २०१६ में आई फिल्म ‘जुनूनियत’ में हृषिता ने अपना दमदार अभिनय दिखाने की जी-तोड़ मेहनत की। अब एक लंबे अंतराल के बाद उन्होंने एक बार फिर से आनेवाली फिल्म ‘इश्क तेरा’ में सिने प्रेमियों का दिल जीतने के लिए रोमांस का तड़का लगाया है। प्रस्तुत है हृषिता भट्ट से सोमप्रकाश `शिवम की हुई बातचात के प्रमुख अंश-
 `इश्क तेरा’ किस तरह की फिल्म है और आपका क्या किरदार है?
यह एक पति-पत्नी के बीच दर्शायी गई बहुत ही खूबसूरत रोमांटिक लव स्टोरी है, इसमें मेरी दोहरी भूमिका आप सभी को पहली बार देखने को मिलेगी। सामान्यत: हम देखते हैं कि लोगों के बीच अक्सर भूत पकड़ लिया या कोई बेवजह बोलने की लत का शिकार हो गया। ऐसे में हम समझ बैठते हैं कि वह मानसिक विक्षिप्त हो चुका है वगैरह-वगैरह लेकिन ऐसा होता नहीं है। क्योंकि हो सकता है कि उस व्यक्ति के साथ कभी कोई अनहोनी या कोई हादसा रहा हो जिसके चलते वह व्यक्ति इसका शिकार हुआ हो। बस इसी तरह का कुछ खास लोगों की आम जिंदगी से जुड़ा हुआ सच इस सिनेमा में दिखाने की कोशिश की गई है। इसे आप रोमांटिक थ्रिलर सिनेमा भी कह सकते हैं।
 आप एक लंबे समय के बाद सिनेमा में वापसी करने जा रही हैं क्या वजह रही?
नहीं, ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। हां, थोड़ा वक्त जरूर लगा है लेकिन पारिवारिक जिम्मेदारियां और इस बीच अच्छे सब्जेक्ट का चयन करना भी जरूरी रहा। मुझे जब कहानी समझ आई तो मैंने इस फिल्म में काम किया। अच्छी कहानी को प्राथमिकता देना उचित समझती हूं। जल्दबाजी में न तो कोई निर्णय लेती हूं और न ही लेना चाहती हूं। खासकर फिल्मों के चयन में तो बिल्कुल भी नहीं।
 आपकी कोई अधूरी महत्वाकांक्षा जिसका इंतजार आपको आज भी हो?
मेरी कोई महत्वाकांक्षा अब शेष नहीं है। मुझे जो चाहिए था वह मैनें वर्षों पूर्व ही हासिल कर लिया। अब तो बस बेहतर जिंदगी जीने के साथ-साथ समाज को संदेशप्रद किरदार से प्रोत्साहित करने की कोशिश रहती है। इससे ज्यादा मेरी और कोई अभिलाषा नहीं है जिसके लिए मैं इंतजार करूं।
 क्या आप शार्ट फिल्मों व वेब सीरीज की ओर भी रुझान करनेवाली हैं?
नहीं फिलहाल तो ऐसा कुछ भी नहीं है और हां अगर भविष्य में कुछ अच्छा मिलता है, तो अवश्य करना चाहूंगी।
 किस तरह की फिल्मों में अभिनय करने की दिलचस्पी आपको अत्यधिक है?
मैं अब तक दर्जनों फिल्मों में अलग-अलग किरदार निभा चुकी हूं। मुझे हर तरह के किरदार निभाने में खुशी होती है। रही बात दिलचस्पी की तो चैलेंजिग किरदारों को निभाने में मुझे अत्यधिक दिलचस्पी रहती है। मैं एक कलाकार हूं तो कला का सम्मान बखूबी करती हूं। वैसे तो सभी किरदार महत्वपूर्ण होते हैं लेकिन फिर भी नारी प्रधान किरदारों को निभाने का कुछ खास ही अंदाज होता है। अभिनय के साथ रोमांस का तड़का लगाना ही पड़ता है।