अयोध्या मामला: खुदाई से मिले साक्ष्य साबित करते हैं कि संरचना मंदिर की है

अयोध्या मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में 36वें दिन की सुनवाई में हिन्‍दू पक्षों को आज अपनी जिरह पूरी करनी है. इस पृष्‍ठभूमि में मुस्लिम पक्ष की बहस का जवाब देते हुए रामलला विराजमान की तरफ से वरिष्ठ वकील सी एस वैद्यनाथन ने ASI की रिपोर्ट पर दलीलें दीं. उन्‍होंने तस्वीरों के जरिये यह बताया कि विवादित ढांचे के नीचे पिलर था. विवादित ढांचे के नीचे एक संरचना मौजूद थी. वकील वैद्यनाथन ने अलग-अलग सबूतों के जरिये यह बताया कि केंद्रीय गुम्बद (सेंट्रल डॉम) ही भगवान राम का जन्मस्थान है.

जस्टिस चन्दचूड़ ने पूछा कि ये कैसे साबित होगा कि ढांचे के नीचे जो खंभों के आधार मिले थे, वो एक ही समय के हैं? रामलला के वकील वैद्यनाथन ने कहा कि ASI रिपोर्ट में इसका जिक्र है कि 46 खम्भे एक ही समय के हैं. उन्होंने कहा कि पहले मुस्लिम पक्ष खाली जगह पर मस्जिद निर्माण की बात कह रहा था. अब वो ईदगाह पर मस्जिद निर्माण की बात कह रहे है.

खुदाई में मिली कमल की आकृति, सर्कुलर श्राइन, परनाला सब वहां मन्दिर को मौजूदगी को साबित करते है और ये सब संरचना उत्तर भारतीय मंदिरों की खासियत है. वैद्यनाथन ने अपनी जिरह पूरी की. उसके बाद मुख्य याचिकाकर्ता गोपाल सिंह विशारद की ओर से वरिष्ठ वकील रंजीत कुमार ने जिरह की. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने एक बार फिर साफ कहा कि हिन्दू पक्ष को आज शाम चार बजे तक ही सुनेंगे. इसके बाद सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन को सुनेंगे.

इससे पहले एक अक्‍टूबर को 35वें दिन की सुनवाई में हिन्दू पक्ष के वकील परासरन ने भगवत गीता के कुछ श्लोक को पढ़ा था और एक न्यायिक व्यक्ति के रूप में माने जाने वाले स्थान पर जोर दिया. खुदाई में मिली कमल की आकृति, सर्कुलर श्राइन, परनाला की उपस्थिति ये साबित करता है कि वह संरचना मंदिर ही थी क्योंकि यह उत्तर भारतीय मंदिरों की विशेषताएं हैं.

परासरन ने कहा था कि अगर लोगों का विश्वास है कि किसी जगह पर दिव्‍य शक्ति है तो इसको न्यायिक व्यक्ति माना जा सकता है, जिसका दिव्य अभिव्यक्ति से कोई अंतर न हो. परासरन ने कुड्डालोर मंदिर का उदाहरण देते हुए कहा था कि कुड्डालोर मंदिर में भी कोई मूर्ति नहीं है और केवल एक दीया जलता है, जिसकी पूजा की जाती है. राजीव धवन ने परासरन की दलील पर टोकते हुए कहा था कि इनके सभी उदाहरण में मंदिर था, यह एक मंदिर के रूप में बताया गया है.

लोगों के विश्वास के साथ पूजा स्थल को मंदिर कहा जा सकता है, मंदिर पूजा स्थान के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक सामान्य शब्द है. राजीव धवन ने कहा था कि सिर्फ कुछ यात्रियों के आधार पर यह नहीं कहा जा सकता है कि वहां पर मंदिर था. हिंदुओं ने वहां पर पूजा इस स्थान से शुरू की.जस्टिस भूषण ने पूछा था कि क्या एक या दो न्यायिक व्यक्ति होंगे, भूमि और राम? परासरन ने कहा था कि वहां पर दो से ज़्यादा न्यायिक व्यक्ति होंगे. जस्टिस बोबडे ने कहा था कि इनमें से कुछ प्रमुख देवता होते हैं और अन्य भी होते हैं.परासरन ने कहा था कि मंदिर में एक प्रमुख देवता होता है और अनेक रूपों में हम उस देवता की पूजा करते हैं. हम न्यायालय को न्याय का मंदिर कहते हैं. हमारे पास कई न्यायाधीश हैं, लेकिन हम पूरे को एक संस्था न्यायालय कहते हैं.

जस्टिस डीवाई चन्द्रचूड़ ने कहा था कि हालांकि कई देवता हो सकते हैं लेकिन न्यायाधिकारी व्यक्तित्व का श्रेय मंदिर के प्रमुख देवता को जाता है. राजीव धवन ने कहा था कि कोर्ट एक नई बहस की तरफ जा रहा है, यह मंदिर के नामकरण के बारे में नहीं है, मैं इस मामले में कोर्ट को एक लिखित नोट दूंगा.रामलला विराजमान के वकील के परासरन ने कहा था कि रामनवमी को भगवान राम का जन्मदिन के तौर पर मनाया जाता है लेकिन यह भगवान राम के जन्मस्थान पर नहीं मनाया जाता. इसलिए जन्मभूमि पर मन्दिर बनाकर भगवान राम के जन्मस्थान पर ही रामनवमी को मनाना चाहिए.हिन्दू पक्ष के वकील सीएस वैद्यनाथन ने कहा था कि जब एक बार साबित हो गया कि उस जगह पर (विवादित जमीन) भगवान राम का जन्म हुआ था तो वहां पर किसी भी मूर्ति की ज़रूरत नहीं है.