" /> अयोध्या में कोरोना संक्रमण से ग्रसित गर्भवती महिला की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव होने से राहत

अयोध्या में कोरोना संक्रमण से ग्रसित गर्भवती महिला की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव होने से राहत

– महिला के परिजनों व इलाज कर रहे अयोध्या के प्राइवेट अस्पताल के डॉक्टर और स्टाफ की एक दिन पहले ही जांच रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है़
– अब महिला की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई है तो महिला के परिजनों को होम क्वारंटाइन के लिए घर भेज दिया जाएगा -डीएम

अयोध्या के सनेथू गांव की कोरोना संक्रमण से ग्रसित गर्भवती महिला की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई है। महिला को सुल्तानपुर के कोरोना हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। सुल्तानपुर में ही दूसरी रिपोर्ट जांच के लिए एसजीपीजीआई भेजा गया था, जहां रिपोर्ट निगेटिव आई है। महिला के परिजनों व इलाज कर रहे अयोध्या के प्राइवेट अस्पताल के डॉक्टर और स्टाफ की एक दिन पहले ही जांच रिपोर्ट निगेटिव आई थी। पीड़ित महिला और उसके संपर्क में आए परिजनों व प्राइवेट अस्पताल के डॉक्टरों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली है। जिलाधिकारी अयोध्या अनुज कुमार झा ने बताया है की पूराबाजार गांव सनेथू की 25 वर्षीय महिला की पहली रिपोर्ट 23 अप्रैल को पॉजिटिव आई थी। पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद महिला को सुल्तानपुर के कोविड-19 हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। उसके परिजनों व गर्भवती महिला का इलाज कर रहे संजाफी हॉस्पिटल के डॉक्टर व स्टाफ को फैसलटी क्वारंटाइन सेंटर में क्वारंटाइन कर दिया गया था। परिजनों व हॉस्पिटल स्टाफ का कोविड-19 टेस्ट कराया गया था जिसकी 26 अप्रैल की रात्रि में निगेटिव रिपोर्ट आई थी। अब महिला की भेजी दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई है तो महिला के परिजनों को होम क्वारंटाइन के लिए घर भेज दिया जाएगा। इलाज करनेवाले प्राइवेट हॉस्पिटल के डॉक्टर व स्टाफ को अभी फैसलटी क्वारंटाइन सेंटर में ही रहना पड़ेगा। उनका दोबारा सैंपल लिया जाएगा। वहीं पीड़ित महिला का अभी तीसरी बार सैंपल लेकर एसजीपीजीआई भेजा जाएगा उसकी जो रिपोर्ट आएगी उसके आधार पर निर्णय लिया जाएगा। हालांकि यह कहा जा सकता है कि आयोध्या पर भगवान राम की कृपा है कि आयोध्या अब कोरोना मुक्त जिला है।