" /> अयोध्या में दिखा त्रेतायुग सा दृश्य

अयोध्या में दिखा त्रेतायुग सा दृश्य

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण कार्य की शुरुआत से पहले के दृश्य विहंगम और अभूतपूर्व हैं। राम नगरी में त्रेतायुग सा दृश्य देखने को मिल रहा है। जो तस्वीरें सामने आ रही हैं, वो ऐसी हैं जैसे कि भगवान राम के वनवास खत्म कर लौटने पर अयोध्यावासी पूरे मन से उनके स्वागत को खड़े हों। अयोध्या में भगवान राम के भव्यतम मंदिर के निर्माण कार्य शुभारंभ से पहले सरयू तट पर विशेष सजावट की गई है। राम के स्वागत में अयोध्या का सरयू तट एक अप्रतिम रूप में दिख रहा है।
राम नगरी में आमंत्रित संतों के साथ अयोध्या समेत देश भर के संतों का रेला अब मंदिर के भूमि पूजन समारोह का हिस्सा बनने यहां पर पहुंच गया है। ट्रस्ट की ओर से भी बड़ी संख्या में मठों और संत समाज के प्रतिनिधियों को यहां बुलाया गया है। अयोध्या में हो रहे भूमि पूजन समारोह पर सारी दुनिया की नजरें टिकी हुई हैं। एक ओर जहां अयोध्या में तमाम मेहमान दिख रहे हैं, वहीं अयोध्या वासियों के लिए ये नजारे अभूतपूर्व हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि अयोध्या में ऐसा माहौल उन्होंने कभी नहीं देखा। वीवीआईपी मूवमेंट और सख्त निगरानी को ध्यान में रखते हुए अयोध्या में बड़ी संख्या में सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। अभेध किले में तब्दील हुई अयोध्या में पुलिस, आरएएफ और सीआरपीएफ की फोर्सेज को चप्पे-चप्पे पर तैनात किया गया है। राम मंदिर के भूमि पूजन का उत्साह कितना है, ये अयोध्या के हर हिस्से में साफ दिख रहा है। हर ओर धर्म ध्वजा लिए राम भक्त जय श्री राम का अभिवादन करते दिख रहे हैं। वहीं सरयू के तट पर कुछ कुछ देर पर जय श्री राम के नारे सुनाई पड़ रहे हैं। राम मंदिर के निर्माण को लेकर एक ओर जहां उत्साह है, वहीं अयोध्या में मंदिर के भूमि पूजन समारोह को देखने की उत्सुकता भी। हर कोई उस क्षण का इंतजार कर रहा है, जिस क्षण अयोध्या में राम मंदिर के ऐतिहासिक निर्माण की आधार शिला रखी जाएगी। अयोध्या में हर ओर सिर्फ भगवान राम के नाम की गूंज है। सरयू के तट से जन्मभूमि और दीपोत्सव से रंगोली तक हर कुछ में भगवान राम के दृश्य देखने को मिल रहे हैं। अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन समारोह की तैयारियां जिस अंदाज में की गई हैं, वह दृश्य सारे देश के लिए अद्भुत से हैं। धर्मनगरी में प्रत्यक्ष और टीवी पर परोक्ष रूप से अयोध्या को देख रहे लोग सोशल मीडिया पर भावनाओं का इजहार कर रहे हैं। इसी का असर भी है कि फेसबुक, ट्विटर समेत तमाम सोशल प्लेटफॉर्म्स पर अयोध्या का हैशटैग ट्रेंड का हिस्सा बन गया है। भूमि पूजन समारोह के लिए अयोध्या के छोटे-छोटे देवस्थानों को भी खास रंग में रंग दिया गया है। मंदिर के आसपास के हिस्से पीले रंग में रंगे गए हैं। वहीं हनुमानगढ़ी मंदिर जहां पीएम नरेंद्र मोदी खुद दर्शन के लिए जानेवाले हैं, वहां भी खास तैयारियां की गई हैं। भूमि पूजन स्थल और आसपास के मंदिरों को सजाने के लिए लगभग ६०० किलोग्राम लाल और गुलाबी गुलाब, २४० किलोग्राम गेरबेरा और ३०० किलोग्राम कार्नेशन भी यहां लाए जा रहे हैं। राम मनोहर लोहिया फैजाबाद विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा इस पवित्र शहर में ५० से अधिक स्थानों पर ‘रंगोली’ बनाने के लिए भी फूलों का उपयोग किया जाएगा।