" /> अवध के जिलों में बनी कोरोना की अलग ओपीडी

अवध के जिलों में बनी कोरोना की अलग ओपीडी

• डिमांड बढ़ी तो शुरू हुई मास्क-सेनेटाइजर की कालाबाजारी
•सुल्तानपुर, बस्ती, अमेठी, प्रतापगढ़ व अंबेडकरनगर में अस्पताल चेक करने निकले डीएम
कोरोना के खतरे ने पूर्वी यूपी के अवध क्षेत्र के विभिन्न जिलों के लोगों को चौकन्ना कर दिया है। सुल्तानपुर, बस्ती, अमेठी, प्रतापगढ़ आदि जिलों में जिला अस्पतालों में आइसोलेशन वार्ड व अलग ओपीडी के इंतजाम कर दिए गए हैं। उच्चाधिकारी सरकार के निर्देशों के मुताबिक व्यवस्था करने के लिए स्पॉट के मुआयने में हैं। वहीं मास्क और सैनिटाइजर की बढ़ी डिमांड का फायदा उठाते हुए ब्लैक मार्केटियों ने इनकी कीमतों में कई गुना इजाफा कर दिया है। कहीं-कहीं कृत्रिम किल्लत भी उत्पन्न करने के प्रयास किये जा रहे हैं।
सुल्तानपुर जनपद में जिलाधिकारी सी इंदुमती के दावे के मुताबिक, सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ बीवी सिंह ने ‘सामना’ को बताया कि, जिला चिकित्सालय में २ वार्ड बनाए गए हैं। इनमें १४ मरीजों के भर्ती होने की व्यवस्था है । जरूरत पर अतिरिक्त वार्ड में ट्रामा सेंटर बनाया जाएगा। जिले में कोरोना वायरस से संबंधित मरीजों के लिए अलग से ओपीडी दंत विभाग में बनाई गई है। जिसमें डॉक्टर आर धीरेंद्र मरीजों को देख रहे हैं। जिला चिकित्सालय के चिकित्सकों व पैरामेडिकल को प्रशिक्षित करा दिया गया है। बस्ती जिले में कमिश्नर अनिल सागर ने ओपेक चिकित्सालय कैली तथा जिला अस्पताल का आकस्मिक निरीक्षण किया। उन्होंने कोरोना के इलाज के लिए व्यवस्था का जायजा लिया। निर्देश दिया कि कोरोना वायरस से ग्रसित मरीज के आने पर उसका समुचित इलाज कराएं। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन भी उपस्थित रहे। कैली अस्पताल में कोरोना वायरस के इलाज के लिए १३ बेड का वार्ड बनाया गया है । मरीज को आइसोलेशन में रखने के लिए एक-एक बेड वाले ९ कमरे भी आरक्षित किए गये हैं। मण्डलायुक्त ने निर्देश दिया कि निर्माणाधीन नर्सेस हास्टल में तीमारदारों के रहने के लिए कमरा आवंटित किया जायेगा, ताकि वे सुविधापूर्वक रह सकें। इसी क्रम में उन्होंने जिला अस्पताल का निरीक्षण किया। कोरोना वार्ड में उन्होंने एग्जॉस्ट फैन लगाने का निर्देश दिया। इस दौरान अपर निदेशक डाॅ जेके शाही, एडीएम रमेश चन्द्र तथा चिकित्सकगण उपस्थित रहे। प्रतापगढ़ में डीएम ने मास्क-सैनिटाइजर की कालाबाजारी की सूचना पर छापे की कार्रवाई की। कई दुकानदार चिन्हित किये गए। जिनके खिलाफ उन्होंने केस दर्ज कर सख्त कार्रवाई के संकेत दिए हैं।