आकाश में फूटे भरवां करैले और भिंडी, व्हाट ए ग्रीन आयडिया सर जी

बढ़ते प्रदूषण के कारण सुप्रीम कोर्ट द्वारा पटाखे फोड़ने पर लगाई पाबंदी के बाद दिवाली का आम आदमी और व्यापारी वर्ग दोनों का ही उत्साह ठंडा हो गया। सुप्रीम कोर्ट की सख्‍ती के बाद पुलिस के डर से आमतौर पर दिवाली पर बिकने वाले पटाखे इस बार दुकानों से गायब हो गए। इनके बदले ग्रीन पटाखों को बेचने का निर्देश दिया गया है। अब ये ग्रीन पटाखे क्या होते हैं? यह आम लोगों को पता ही नहीं है। इसलिए व्यापारियों ने ग्रीन पटाखे हरे करैले और भिंडी में बना डाले। कल दिवाली पर कुछ जगहों पर आकाश में यही बारूद भरे भरवां करैले और भिंडी फूटते नजर आए।

ग्रीन पटाखे का यह नायाब आयडिया देखकर कई लोगों के मुंह से बरबस निकल पड़ा कि व्हॉट ए ग्रीन आयडिया सर जी!
ग्रीन पटाखों की जानकारी समय पर नहीं मिलने के कारण ये पटाखे बाजार में नहीं उपलब्‍ध हो सके, इस पर सदर बाजार वेलफेयर एसोसिएशन ने हरी सब्‍जी लेकर अपना विरोध जताया। इस ग्रीन पटाखों के बारे में सदर बाजार वेलफेयर एसोसिएशन के अध्‍यक्ष एचएस छाबड़ा ने कहा कि हमें ग्रीन पटाखों की जानकारी नहीं थी। जब एसएचओ से इस बारे में पूछा गया तो उन्‍होंने कहा कि मैं इसकी पूरी लिस्‍ट आपको देता हूं लेकिन अगले दो सप्ताह तक हमें सिर्फ इंतजार ही करना पड़ा। न कोई लिस्‍ट मिली, न ही कोई जानकारी। इस कारण बाजार में ग्रीन पटाखे नहीं आ सके। उन्‍होंने कहा कि यह सब कार्रवाई एक साल पहले से करनी चाहिए थी।