" /> आखिरी केस आने के 28 दिन बाद खुलेंगे सील हुए हॉटस्पॉट, बाद में भी जारी रहेगी निगरानी

आखिरी केस आने के 28 दिन बाद खुलेंगे सील हुए हॉटस्पॉट, बाद में भी जारी रहेगी निगरानी

दिल्ली सरकार ने बीते दिनों सील किए गए तीन हॉटस्पॉट को कोरोना के संक्रमण से मुक्त करने का दावा किया है। मगर अब भी हॉटस्पॉट के सील इलाकों में आवाजाही शुरू करने के लिए इंतजार करना पड़ेगा। कोरोना हॉटस्पॉट में आखिरी कोरोना मरीज के सामने आने के अगले 28 दिन तक एक भी नया केस नहीं आने पर ही इसे खोला जाएगा। दिल्ली में अभी तक एक भी हॉटस्पॉट की सील नहीं खोली गई है।

दिल्ली के 11 जिलों में से 10 को केंद्र सरकार ने रेड जोन में डाला है। इन जिलों में कुल 66 हॉटस्पॉट बनाए जा चुके हैं। दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या 17 सौ के पार पहुंच चुकी है। सबसे अधिक 12 हॉटस्पॉट दक्षिण-पूर्वी दिल्ली में बनाए गए हैं। वहीं, पूर्वी दिल्ली में नौ, पश्चिमी दिल्ली में सात और दक्षिणी दिल्ली में सात हॉट स्पॉट बनाए गए हैं। उत्तरी-पश्चिमी दिल्ली में अभी तक एक भी हॉट स्पॉट नहीं है।
दिल्ली में कुछ हॉटस्पॉट ऐसे हैं, जहां सील करने के 15 दिनों से अधिक समय बीत जाने के बाद भी कोई केस सामने नहीं आया है। सरकार इसके लिए उन इलाकों में लागू ऑपरेशन शील्ड को कारण बता रही है। सरकार को उम्मीद है कि 20 अप्रैल के बाद कुछ हॉटस्पॉट की सीलिंग खोली जा सकती है, मगर इसे खोले जाने के बाद भी यहां सरकार की निगरानी बनी रहेगी।

दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वसुंधरा एंक्लेव का मनसारा अपार्टमेंट, खिचड़ीपुर, कल्याणपुरी और शाहदरा जिले का दिलशाद गार्डन, पुराना सीमापुरी इलाके में बीते 15 दिनों से अधिक समय बीत जाने के बाद कोई केस नहीं आया है। 28 दिन बीतने के बाद इन इलाकों को लेकर एक समीक्षा बैठक होगी। स्वास्थ्य विभाग की मंजूरी के बाद सील खोलने को लेकर आदेश जारी कर दिया जाएगा। हॉटस्पॉट में 28 दिन तक कोई केस नहीं आने के बाद उसका सील तो खोल दिया जाएगा, मगर उसके बाद अगले 14 दिन तक उसे ऑरेंज जोन मानकर सरकार की निगरानी रहेगी। साथ ही रैंडम स्क्रीनिंग भी होती रहेगी। अगर 14 दिन तक कोई मामला नहीं आता है, फिर अगले 14 दिन तक नजर रखने के बाद उस क्षेत्र को ग्रीन जोन में डाला जाएगा। मसलन रेड जोन के खुलने के बाद भी उसे 28 दिन बाद ग्रीन जोन में डाला जाएगा। केंद्र ने राज्य सरकारों से कहा है कि 3 मई तक लॉकडाउन का वह फायदा उठाएं। कोशिश करेंगे कि अधिकतम रेड जोन को ग्रीन जोन में बदला जा सके।