" /> आतंकियों की नई नीति परेशान कर रही कश्मीरियों को, अगवा कर, हत्या कर, लाश न देकर आडियो संदेश दे रहे हैंmmm

आतंकियों की नई नीति परेशान कर रही कश्मीरियों को, अगवा कर, हत्या कर, लाश न देकर आडियो संदेश दे रहे हैंmmm

कश्मीरी जनमानस आतंकियों की उस नीति से परेशान होने लगा है जिसमें वे लोगों को अगवा कर उनकी ‘हत्या’ करने के बाद शव भी नहीं दे रहे हैं। ऐसे दो मामले पिछले एक पखवाड़े में आ चुके हैं। कश्मीरी आतंकियों से शव देने की अपील कर रहे हैं, पर वे कहते हैं कि शव देने से कश्मीरियों का ही नुक्सान होगा क्योंकि कोरोनाकाल में ज्यादा भीड़ होने से लोग संक्रमित हो जाएंगें।

ताजा मामला श्रीनगर के खानमोह के उस पंच का है जो दो दिन पहले शोपियां के चाकूरा से लापता हो गया था। अब एक आडियो क्लिप में आतंकी दावा कर रहे हैं कि उसे अगवा करने के बाद उसकी हत्या कर दी गई है और शव दफना दिया गया है। आतंकियों के अनुसार, पंच का शव उनके परिजनों को इसलिए नहीं दिया गया है ताकि कश्मीरियों को कोरोना से बचाया जा सके।

ऐसा ही एक संदेश आतंकियों ने 9 अगस्त को भी जारी किया था जिसमें कुलगाम के प्रादेशिक सेना के जवान शाकिर मंजूर की हत्या के प्रति दावा किया गया था। हालांकि अभी भी पुलिस दोनों आडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं करती है।
पर अगवा किए गए सेना के जवान के घरवाले अब इसे सच मानने लगे हैं क्योंकि 3 अगस्त की रात को आतंकियों ने शाकिर मंजूर का अपहरण कर लिया था और अभी तक सुरक्षाबल उसकी तलाश नहीं कर पाए हैं। छह दिनों के बाद उसकी हत्या किए जाने का आडियो वायरल हुआ तो उसके परिजनों ने उसके शव की मांग करते हुए अपील की। पर आतंकियों ने शव देने से इंकार करते हुए कहा कि ऐसा करने से लोग कोरोना की चपेट में आ जाएंगें।

वैसे कश्मीर में आतंकियों के शव भी अब उनके परिजनों को नहीं सौंपे जा रहे। सुरक्षाबलों को डर है कि उनके जनाजों में एकत्र होने वाली भीड़ लोगों की भावनाओं केा भड़का रही है। यह सच भी है। और कोरोना फैलने के बाद तो कोरोना से मरने वालों के शव भी उनके परिजनों को इस डर से नहीं दिए जा रहे हैं ताकि लोगों को कोरोना से बचाया जा सके।