" /> आतंकियों ने  दी धमकी और भाजपा के बारामुल्ला के यूथ विंग के अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा 

आतंकियों ने  दी धमकी और भाजपा के बारामुल्ला के यूथ विंग के अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा 

आतंकी संगठन तहरीक-उल-मुजाहिदीन ने शनिवार को वादी में भाजपा से जुड़े नेताओं को भाजपा छोड़ने का फरमान सुनाया था। नतीजा भी सामने है। भाजपा के बांडीपोरा के यूथ विंग के अध्यक्ष मारूफ बट ने इस्तीफा भी दे दिया। फरमान न माननेवालों को वसीम वारी जैसे अंजाम के लिए तैयार रहने की धमकी भी दी है। आतंकी संगठन ने यह धमकी बांडीपोरा में पोस्टरों के जरिए दी है। पुलिस ने पोस्टरों को जब्त करते हुए इन्हें जारी करनेवाले तत्वों को पकड़ने के लिए अभियान चलाया है। पुलिस ने वादी के विभिन्न इलाकों में विशेषकर बांडीपोरा व उसके साथ सटे इलाकों में रहनेवाले भाजपा नेताओं की सुरक्षा भी बढ़ा दी है। पर वादी के भाजपा नेताओं में दहशत का माहौल है।

पुलिस ने आधिकारिक तौर पर बांडीपोरा में मिले धमकीभरे पोस्टरों के बारे में कुछ भी बताने से इंकार किया है, लेकिन एक अधिकारी ने कहा कि यह पोस्टर किसी की शरारत भी हो सकते हैं। फिलहाल मामला दर्ज किया गया है और सभी बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए जांच का दायरा बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि वादी में विशेषकर बांडीपोरा व उसके साथ सटे इलाकों में रहनेवाले भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं की सुरक्षा बढ़ाई गई है। कुछ भाजपा नेताओं को सुरक्षित जगहों पर आवासीय सु़विधा भी दी गई है। पर यह कवायद भाजपा नेताओं में हिम्मत नहीं भर पाई जिसके परिणाम में भाजपा के मारूफ बट ने त्यागपत्र दे दिया। मारूफ बारामुल्ला के भाजपा के यूथ विंग का अध्यक्ष था।

जानकारी के अनुसार बांडीपोरा में स्थानीय लोगों ने कई जगहों पर आतंकी संगठन तहरीक-उल-मुजाहिदीन द्वारा जारी पोस्टरों को देखा। ये पोस्टर स्थानीय मस्जिदों की दीवारों और उनके पास के इलाकों में बिजली के खंभों पर भी चिपके पाए गए। इन पोस्टरों के पाए जाने से लोगों में डर पैदा हो गया। पुलिस ने सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचकर पोस्टर अपने कब्जे में ले लिए।

स्थानीय सूत्रों ने बताया कि इन पोस्टरों में तहरीक-उल मुजाहिदीन ने लोगों को भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस से दूर रहने को कहा है। आतंकी संगठन ने भाजपा को कश्मीर और इस्लाम का दुश्मन करार दिया है। आतंकी संगठन ने कहा कि भाजपा का साथ देने का मतलब इस्लाम के खिलाफ काम करना है इसलिए कोई भी भाजपा के साथ कोई वास्ता न रखे। भाजपा से जुड़े नेता और कार्यकर्ता अपनी गतिविधिंया बंद करें। भाजपा से इस्तीफा दें और माफी मांगें। ऐसा न करनेवालों का इस्लाम व कौम का दुश्मन समझा जाएगा। उनका भी वही अंजाम होगा जो वसीम वारी, उनके पिता और भाई का हुआ है। वसीम वारी को बुधवार की रात को आतंकियों ने उनके घर के बाहर उनकी दुकान पर मौत के घाट उतारा था। वसीम के साथ उनके पिता और भाई भी आतंकी हमले में मारे गए हैं। पुलिस के मुताबिक भाजपा नेता की उनके भाई और पिता की हत्या लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की है।