`आदित्य संवाद’ से युवाओं में बढ़ा विश्वास

राजनीतिक पार्टियां अनेक हैं लेकिन युवाओं की समस्याओं, उनकी अपेक्षाओं को समझनेवाले बहुत कम। ऐसे में शिवसेना नेता व युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे ने युवाओं से रू-ब-रू होने का मन बनाया। जबसे `आदित्य संवाद’ शुरू हुआ है तबसे मुंबई सहित महाराष्ट्र के युवाओं में शिवसेना के प्रति विश्वास और बढ़ता जा रहा है।
बता दें कि युवासेना महाराष्ट्र के युवाओं की समस्याओं को दूर करने के लिए निरंतर कार्य कर रही है। शिवसेना नेता व युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे के नेतृत्व में मुंबई सहित पूरे राज्य में लाखों कार्यकर्ता युवासेना से जुड़ रहे हैं। आदित्य ठाकरे यूं तो युवाओं से संवाद साधते रहते हैं लेकिन जबसे उन्होंने `आदित्य संवाद’ कार्यक्रम की शुरुआत की है, उसके बाद से लगभग ३ से ४ लाख युवा उनसे जुड़ गए हैं। दहिसर के रहनेवाले युवा आशीष मिश्रा ने बताया कि आज से पहले ऐसा नहीं हुआ है जब किसी युवा नेता ने लगातार राज्य के जिलों में जाकर युवाओं से संवाद साधा हो और उनके प्रश्नों को सुनने, समस्याओं से अवगत होने के साथ अपेक्षाओं को जाना होगा। मुंबई सेंट्रल निवासी व युवा छात्र किशन पवार ने बताया कि देश में युवाओं की संख्या काफी है। युवाओं की परेशानियों पर यदि कोई ध्यान दे रहा है तो वो शिवसेना हैं। अंधेरी के जितेंद्र दुबे ने बताया कि आजकल लोग नाम के युवा नेता बने घूमते हैं। वे युवाओं को होनेवाली आम परेशानियों से वाकिफ नहीं हैं। दूसरी ओर आदित्य ठाकरे निरंतर युवाओं के संपर्क में बने हुए हैं। वे युवाओं के आइकॉन बनते जा रहे हैं। माहिम के संदीप कोरी ने बताया कि युवाओं की आवाज अगर कोई है तो वह युवासेना है। युवासेना ही असल मायने में युवाओं के हित के बारे में सोचती है।