" /> आरक्षित रेलवे टिकट कैंसिल करने के लिए दर-दर भटक रहे हैं यात्री!

आरक्षित रेलवे टिकट कैंसिल करने के लिए दर-दर भटक रहे हैं यात्री!

– रेल मंत्रालय की घोषणा के बावजूद भिवंडी में बंद है रेलवे आरक्षण केंद्र
– यात्रियों का आरोप, मिलता टिकट का पैसा तो होता गुजर-बसर

रेल यात्रा सुविधा हेतु केंद्रीय रेल मंत्रालय द्वारा देश के समस्त रेल स्टेशनों पर मौजूद आरक्षण केंद्रों को शुरू किए जाने की घोषणा के बावजूद भिवंडी रोड रेल स्टेशन पर टिकट आरक्षण केंद्र अभी तक नहीं शुरू किया गया, जिसके कारण पहले से विंडो द्वारा आरक्षित किए गए रेलवे टिकट को ट्रेनें रद्द होने के कारण कैंसिल करने हेतु दर-दर भटकना पड़ रहा है। काम-धंधे के अभाव में रेल यात्रियों का आरोप है कि रेलवे प्रशासन नाहक ही उन्हें हैरान कर रहा है। यदि उनके टिकट का पैसा उन्हें मिल जाता तो लॉकडाउन के दौरान कम-से-कम पेट की भूख को मिटाने के लिए कहीं हाथ तो न फैलाना पड़ता।
गौरतलब हो कि रेल मंत्रालय द्वारा स्टेशनों पर आरक्षण केंद्रों को खोलने की घोषणा की गई है, जिसके बाद ठाणे, कल्याण, बदलापुर जैसे इलाकों में टिकट आरक्षण केंद्र खोलकर प्रवासी लोगों की टिकट आरक्षण बुकिंग शुरू की गई है, जबकि भिवंडी रोड रेल स्टेशन पर टिकट आरक्षण केंद्र अभी तक बंद है। इस कारण पहले से टिकट आरक्षित किए यात्री अपना टिकट कैंसिल करने के लिए दर-दर की ठोकर खा रहे हैं। बता दें कि 24 मार्च से लागू लॉकडाउन की वजह से लोगों द्वारा निकाले गए तमाम ट्रेनों के आरक्षित टिकट स्वतः कैंसिल हो चुके हैं। लॉकडाउन के पूर्व यात्रियों द्वारा मार्च, अप्रैल, मई, जून माह के लिए आरक्षित टिकट काउंटरों से निकाला गया था, जिसे आरक्षण केंद्र से ही कैंसिल किया जा सकता है।
प्रवासी यात्रियों का समूह भिवंडी रोड रेलवे स्टेशन पर आरक्षण केंद्र खुलने की प्रतीक्षा में रोज चक्कर काट रहा है। इतना ही नहीं, रेलवे प्रशासन द्वारा शुरू की गई ट्रेनों के आरक्षण के लिए मजदूर भटक रहे हैं। ट्रेनें निरस्त होने बाद टिकट को रिटर्न करना भिवंडी में टेढी खीर बन गया है। भिवंडी के शेलार इलाके में रहनेवाले अशोक दुबे व जितेंद्र त्रिपाठी (पिंटू) ने बताया कि टिकट रिफंड का पैसा मिलता तो महामारी की बदहाली में बहुत काम आ सकता था। भिवंडी रोड रेल स्टेशन आरक्षण केेंद्र पर टिकट कैंसिल कराने के लिए आए लोगों ने बताया कि लॉकडाउन में रोजगार बंद हैं। दो वक्त के भोजन के लिए लोग मोहताज हो गए हैं। अगर रिटर्न टिकट का पैसा मिल जाता तो कम-से-कम भुखमरी से तो बच जाते। भिवंडी की कई सामाजिक संस्थाओं ने केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल, रेल महाप्रबंधक मुंबई आदि को पत्र लिखकर भिवंडी में आरक्षण केंद्र खिड़की को अविलंब खोलने की मांग की है, ताकि प्रवासी यात्री अपने गंतव्य का आरक्षित टिकट निकाल सकें और 4 माह पूर्व लिया गया आरक्षित टिकट कैंसिल कर अपना भुगतान प्राप्त कर सकें।