" /> आवाज से कराओ कोरोना की पहचान, ठाणे महापौर की आयुक्त से मांग

आवाज से कराओ कोरोना की पहचान, ठाणे महापौर की आयुक्त से मांग

वर्तमान समय में भले ही ठाणे मनपा की सीमा में कोरोना का संक्रमण कुछ हद तक कम हुआ है लेकिन सितंबर माह में एक बार संक्रमण तेजी से बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में अभी से इसकी रोकथाम के लिए उपाय योजना किए जाने का निर्देश महापौर नरेश म्हस्के ने ठाणे मनपा प्रशासन को दिया है। साथ ही मनपा आयुक्त विपिन शर्मा को पत्र देकर आग्रह किया है कि आवाज द्वारा कोरोना ग्रस्तों की पहचान की तकनीक का उपयोग ठाणे में किया जाए, जिससे संदिग्ध मरीजों की जल्द जानकारी उपलब्ध हो और इलाज करने में भी आसानी हो।
ठाणे मनपा आयुक्त को लिखे अपने पत्र में महापौर ने बताया कि आवाज से होनेवाली कोरोना संक्रमितों की पहचान को लेकर कई देशों में रिसर्च किए गए हैं। कुछ देशों में तो आवाज द्वारा कोरोना रोगियों की पहचान कर उनका इलाज किया जा रहा है।
आज कोरोना संक्रमण को खत्म करने के लिए हर स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। इसके साथ ही युद्ध स्तर पर उपाय योजनाओं पर भी अमल किया जा रहा है, जबकि कोरोना उपचार की खोज भी जारी है। चिकित्सा शोध में इस बात की पुष्टि हुई है कि आवाज की जांच कर कोरोना रोगियों की पहचान के बाद उपचार तुरंत किया जा सकता है। इन बातों का उल्लेख भी महापौर ने अपने पत्र में किया है। उन्होंने कहा कि इस तकनीक की मदद से २० से २५ मिनट में रिपोर्ट आ जाएगी। ठाणे शहर स्थित अस्पतालों में भी इसको लेकर शोध किया जा रहा है। इनमें ठाणे के भूमकर ईएनटी हॉस्पिटल (डॉ. आशीष भूमकर), वॉईस क्लिनिक, ठाणे (वॉईस थेरपिस्ट व स्पीच लैंग्वेज पैथोलॉलिस्ट सोनाली लोहार) व हेल्थ को-हियरिंग स्पीच एंड फिजियोक्लोनिक (न्यूरोस्पीच लॅग्वेज थेरपिस्ट डॅनिअल जोनास) शामिल हैं।