इतिहासकारों ने महान सम्राट स्कंदगुप्त के किए कार्यों से किया अन्याय-अमित शाह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने काशी हिंदू विश्‍वविद्यालय (बीएचयू) में गुप्‍त सम्राट स्‍कंदगुप्‍त का जिक्र कर कहा कि देश के इतिहास को फिर से लिखने की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि सम्राट स्कंदगुप्त ने कश्मीर को स्वतंत्र किया और देश को भी हूणों के आक्रमण से बचाया लेकिन इतनी बड़ी घटना इतिहास में कहीं दिखी नहीं।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह गुरुवार को बीएचयू में दो दिवसीय अंतर्राष्‍ट्रीय संगोष्‍ठी ‘गुप्‍तवंशैकवीर : स्‍कंदगुप्‍त विक्रमादित्‍य का ऐतिहासिक पुन:स्‍मरण एवं भारत राष्‍ट्र का राजनैतिक भविष्‍य’ में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे। उनके साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  एवं केंद्रीय मंत्री महेन्द्र नाथ पाण्डेय भी संगोष्ठी में शिरकत किया। अपने सम्बोधन में गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि गुप्त साम्राज्य की सबसे बड़ी सफलता ये रही कि हमेशा के लिए वैशाली और मगध साम्राज्य के टकराव को समाप्त कर एक अखंड भारत के रचना की दिशा में गुप्त साम्राज्य आगे बढ़ा था। स्कंदगुप्त विक्रमादित्य को इतिहास में बहुत प्रसिद्धि मिली है, लेकिन उनके साथ इतिहास में बहुत अन्याय भी हुआ है। उनके पराक्रम की जितनी प्रशंसा होनी थी, उतनी शायद नहीं हुई।

इस अवसर पर राष्ट्रीय संग्रहालय नई दिल्ली के महानिदेशक डा. बीआर मणि, जेएनयू के प्रो. संजय भारद्वाज, आइसीएसआर के ओम उपाध्याय, बीएचयू के प्रो. सीताराम दुबे, नेपाल के डॉ  काशीनाथ, बैंकाक के डॉ  नरसिंह सी पंडा, जापान के आइवा तकाकी सहित मंगोलिया, वियतनाम, चीन, म्यांमार, इंडोनेशिया, अमेरिका आदि के विद्वान गुप्त वंश के इस वीर के संदर्भ में ऐतिहासिक तथ्यों को प्रस्तुत किया।