इमरान को लगने लगा डर, लगाई दुनिया से गुहार- हमें हिंदुस्थान के परमाणु हमले से बचाओ!

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने हिंदुस्थान के परमाणु हथियारों से डरकर एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय समुदाय से गुहार लगाई है। इमरान ने इसके लिए कई ट्वीट किए जिसका आशय है कि हमें हिंदुस्थान के परमाणु हमले से बचाओ। गृहमंत्री राजनाथ सिंह के कड़क बयान के बाद इमरान के होश उड़े हुए हैं।
पीएम इमरान खान ने कल लगातार कई ट्वीट्स किए और हिंदुस्थान के परमाणु हथियारों को लेकर अपना डर जाहिर किया इमरान खान ने लिखा कि हिंदुस्थान के परमाणु हथियार का नियंत्रण फासीवादी मोदी सरकार के हाथ में है…यह एक ऐसा मुद्दा है जिससे केवल क्षेत्र पर ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया पर इसका प्रभाव पड़ेगा। पाकिस्तानी पीएम इमरान खान का ये बयान रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के ‘पहले परमाणु हमला ना करने की नीति’ में परिस्थितियों के अनुसार बदलाव के ऐलान के बाद आया है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा था कि हमारी नीति रही है कि हम परमाणु हथियार का पहले प्रयोग नहीं करेंगे लेकिन आगे क्या होगा, यह परिस्थितियों पर निर्भर करता है।
इमरान खान ने एक ट्वीट में लिखा, ‘हिंदुत्ववादी मोदी सरकार केवल पाकिस्तान के लिए ही नहीं बल्कि हिंदुस्थान के अल्पसंख्यकों और ‘नेहरू-गांधी के भारत’ के लिए भी खतरा है।’ इमरान खान एक बार फिर कश्मीर मुद्दे पर दुनिया में गुहार लगाते नजर आए। इमरान ने कहा कि कश्मीर के हालात को देखते हुए अब तक खतरे की घंटियां बज जानी चाहिए थीं और संयुक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षक वहां भेजे जाने चाहिए थे।
इमरान ने हमेशा की तरह एक बार फिर मोदी सरकार की तुलना जर्मनी के नाजियों से की और आरोप लगाया कि कश्मीर में पिछले दो हफ्तों से ९० लाख मुस्लिम डर के साए में जी रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि भारत सरकार की नफरत की विचारधारा की वजह से ना केवल हिंदुस्थान के अल्पसंख्यक खौफ में हैं बल्कि पाकिस्तान के हिंदू अल्पसंख्यकों पर भी इसका प्रभाव पड़ रहा है। बता दें कि ५ अगस्त को मोदी सरकार के जम्मू-कश्मीर के विशेषाधिकार से जुड़े अनुच्छेद-३७० को बदलने के पैâसले के बाद से पाकिस्तान लगातार बयानबाजी कर रहा है लेकिन अंतरराष्ट्रीय मंच या दुनिया के किसी भी देश से उसे कोई मदद हासिल नहीं हो पा रही है।

मोदी-ट्रंप की फोन पर आधे घंटे तक बातचीत
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल सोमवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप से फोन पर बातचीत की। दोनों नेताओं के बीच करीब ३० मिनट तक बातचीत हुई। दोनों में द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मामलों पर बातचीत हुई। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्रंप से बातचीत में ओसाका में हुई जी-२० शिखर सम्मेलन का भी जिक्र किया।