" /> ईद-ए-गुलाबी का पैगाम समझो!

ईद-ए-गुलाबी का पैगाम समझो!

पिछले कुछ दिनों से दिल्ली शांत है, लेकिन यही दिल्ली पिछले सप्ताह सांप्रदायिक दंगों की गवाह बन चुकी है। दर्जनों मौत ने दिल्ली के माथे पर एक तरह से कालिख पोत दी है। इसके पहले देशभर में असहिष्णुता को लेकर भी काफी बयानबाजी हुई थी और देश का माहौल खराब करने का प्रयास किया गया था। ऐसे माहौल में अगले सप्ताह होली का आना एक उम्मीद जगाता है कि `मोहब्बत की पिचकारी में भाईचारे का रंग’ शायद बीते दिनों की कड़वाहट को खत्म कर सके। इस बार होली पर उन तमाम लोगों को मुंह तोड़ जवाब दिया जा सकता है जिनका ये कहना है कि देश में सांप्रदायिक सद्भाव अब ज्यादा बिगड़ गया है। बजाय इसके कि दिलों में मैल बढ़ानेवाली घटनाओं पर ध्यान दें, होना तो यह चाहिए कि होली के बहाने गले मिलकर गलत फहमियों को दूर करने का प्रयास किया जाए। यह केवल दिल्ली में ही नहीं बल्कि पूरे देश में होना चाहिए और मुस्लिम समाज को इसके लिए आगे आना चाहिए। हमारे देश में जाति व धर्म आधारित ऐसी घटनाएं होती हैं, जिनको अनदेखा नहीं किया जा सकता। जिनको अक्सर बुद्धिजीवियों ने असहिष्णुता का नाम देकर बदनाम किया हुआ है। ऐसी असहिष्णुता का जवाब तीज-त्यौहार पर देना उचित और जरूरी हो जाता है। आखिर त्यौहार होते किसलिए हैं। एक दूसरे के त्यौहारों के बहाने एक-दूसरे के करीब आने का मौका मिलता है। और मस्ती भरा निश्छल होली जैसा रंगीन त्यौहार हो तो कहना ही क्या।
अक्सर मुस्लिम समाज में होली खेलने को लेकर दुविधा की स्थिति निर्माण की जाती है। अक्सर उलेमा होली खेलने से मना करते हैं। सऊदी अरब में पैगंबर मोहम्मद साहब की नबूवत के एलान से पहले होली खेली जाती थी या नहीं, इसका कोई पुख्ता प्रमाण नहीं है। न ही मोहम्मद साहब के दौर में या फिर खुलफा-ए-राशिदीन के दौर में होली खेलने या होली खेलने से मना करने की कोई ठोस रवायत मिलती है। हां, हुड़दंग और बदतमीजियों से इस्लाम ने जरूर मना किया है। हिंदू समाज के बुद्धिजीवी भी खुद हुड़दंगी होली को गलत बताते हैं। लेकिन क्या होली में केवल हुड़दंग ही है? यह कहना बिल्कुल गलत होगा कि होली हुड़दंग का त्यौहार है। अगर ऐसा होता तो अमीर खुसरो कभी अपने पीर-ओ-मुर्शिद हजरत निजामुद्दीन औलिया की शान में होली के मुबारक मौके पर ये न कहते,
`आज रंग है ऐ मां रंग है री, मेरे महबूब के घर रंग है री, मोरे ख्वाजा के घर रंग है री……’
हिंदी खड़ी बोली या हिंदवी के पहले कवि कहे जानेवाले अमीर खुसरो जब अपने आध्यात्मिक गुरु दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन औलिया के शिष्य बने, वो दिन होली का ही दिन था। होली के त्यौहार का आनंद अगर सूफियाना अंदाज में मनाना हो तो इन पंक्तियों के भावों से अच्छा भला कुछ हो सकता है? खुद सूफी संत हजरत निजामुद्दीन औलिया और अमीर खुसरो के अलावा बहादुर शाह जफर, शाह आलम, रसखान जैसे मुस्लिम कवियों ने भी होली पर सुंदर रचनाएं लिखी हैं जो आज भी लोकप्रिय हैं।
देश के कई अन्य मुस्लिम कवियों और लेखकों ने भी अपनी रचनाओं में इस बात का उल्लेख किया है कि होली का पर्व सिर्फ हिंदू ही नहीं, मुसलमान भी मनाते रहे हैं। जिस मुगलिया सल्तनत के अद्ल-ओ-इंसाफ की आम मुसलमान दुहाई देता है, इतिहासकारों के मुताबिक, उन्हीं मुगलों के काल में होली का त्यौहार ईद की तरह ही मनाया जाता था। मुगलकाल में होली खेले जाने के कई प्रमाण मिलते हैं। किसी भी सदी के आचार और संस्कृति को उस वक्त की कला और चित्रकारी के जरिए सबसे बेहतर तरीके से समझा जा सकता है। भद्रा, अमदाबाद में ख्वाजा अब्दुल समद की मजार पर लिखी होली की पंक्तियों पर गौर कीजिए;
ला-इलाहा की भरके पिचकारी
ख्वाजा पिया ने मुह पै मारी
श्याम की मैं तो गई बल-बलहारी
वैâसा है मेरा पिया सुबहान अल्लाह
होली खेलें पढ़ के बिस्मिल्लाह
ला-इलाहा-इल्लल्लाह
बाबा बुल्लेशाह ने लिखा है-
होरी खेलूंगी, कह बिसमिल्लाह,
नाम नबी की रतन चढ़ी,
बूंद पड़ी अल्लाह अल्लाह
अंतिम मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर के बारे में प्रसिद्ध है कि होली पर उनके मंत्री उन्हें रंग लगाने जाया करते थे। बादशाह के उमरा और वजीर भी वही करते जो हाकिमे वक्त किया करते थे। वे होली के रोज अपने हिंदू दोस्तों के यहां जाते और उन्हें अपने यहां बुलाते थे। होली के मौके पर महल में मुशायरा हुआ करता था। नजीर अकबराबादी एक ऐसा नाम है जिसका जिक्र के बिना होली अधूरी है। उन्होंने होली का ऐसा समां बनाया है कि आज तक उसका कोई सानी हुआ;
जब फागुन रंग झमकते हों तब देख बहारें होली की
और डफ के शोर खड़कते हों तब देख बहारें होली की
परियों के रंग दमकते हों तब देख बहारें होली की
खम शीशए, जाम छलकते हों तब देख बहारें होली की
इतना ही नहीं होली को ईद-ए-गुलाबी या आब-ए-पाशी (रंगों की बौछार) कहा जाता था। यानी होली को लेकर उस दौर में भी कोई पाबंदी का जिक्र नहीं है जब मुगलों का दौर था जिन्हें कट्टरपंथी माना जाता है। अगर होली के पर्व को गैर इस्लामी माना जाता तो क्या मुगलिया सल्तनत होली को यूं मुसलमानों को मनाने देती? दरअसल मुस्लिम समाज ने अपनी जड़ता की वजह से कई पुरानी परंपराओं को भुला दिया है। कुरआन और हदीस के बर-अक्स उसने मौलवियों की किताबों को इस्लाम समझ लिया है। यही गलती उसके सामाजिक समरसता लाने में आड़े आती है। दिल्ली सहित देश के किसी भी हिस्से में हुए दंगों में गलत-सही के चक्कर में बिना पड़े अगर मुस्लिम समाज अपनी तरफ से अमन की कोशिश करता रहे तो नतीजा बेहतर हो सकता है। खून का बदला खून से नहीं मुस्कराहट और अमन से भी दिया जा सकता है। क्या हजरत मोहम्मद साहब ने ऐसा नहीं किया है? जिन्होंने संग बरसाए क्या उन्होंने उनको गले नहीं लगाया? क्या नबी से ज्यादा आपको इस्लाम प्यारा है? दरअसल गलत धारणाएं अज्ञान और पूर्वाग्रहों से ही पनपती हैं। इस तरह के अज्ञानता भरे विचारों से लड़ने का एक ही तरीका है, उन पर ध्यान ही न देना। नजीर बनारसी के शब्दों में कहें तो;
कहीं पड़े ना मोहब्बत की मार होली में
अदा से प्रेम करो दिल से प्यार होली में
गले में डाल दो बाहों का हार होली में
उतारो एक बरस का खुमार होली में
रंगों का यह त्यौहार कई बदनुमा दाग धोने की सलाहियत रखता है। धार्मिक उन्माद में अनेक बेकसूरों की जान जा चुकी है। ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न होने पाए इसका सभी को प्रयास करना होगा। इस होली प्रयत्न करें और दृढ़ निश्चय करें कि अपने गैर मुस्लिम पड़ोसी, मित्र अथवा परिचित को मोहब्बत भरी मुस्कान के साथ गुलाल या रंग लगाकर और गले मिलकर होली की मुबारकबाद देंगे। रमजान भी करीब आ रहा है, देखिएगा कि रमजान-ईद पर आपको ईद की बधाइयां देनेवालों की कतार लग जाएगी। ऐसा विश्वास केवल इसलिए है क्योंकि, यही साझा संस्कृति हमारे देश की विरासत है और यह विरासत कभी दगा नहीं करती। आप सभी को होली की अग्रिम शुभकामनाएं।