" /> ईद व अलविदा जुमे की नमाज को लेकर पीस कमेटी की बैठक, अलवि‍दा जुमे की सामूहि‍क नमाज़ को अनुमति नहीं

ईद व अलविदा जुमे की नमाज को लेकर पीस कमेटी की बैठक, अलवि‍दा जुमे की सामूहि‍क नमाज़ को अनुमति नहीं

जि‍ले में हर नये दि‍न के साथ कोरोना पॉजि‍टि‍व केस बढ़ रहे हैं। इसके बाद प्रशासन ने वाराणसी के कि‍सी भी मस्‍जि‍द में आगामी जुमे को अलवि‍दा जुमे की नमाज को अनुमति‍ नहीं दी है। शि‍वपुर में आयोजि‍त पीस कमेटी की बैठक में जि‍ले के वरि‍ष्‍ठ प्रशासनि‍क और पुलि‍स अधि‍कारि‍यों ने दो टूक कहा है कि‍ मस्‍जि‍दों में सामूहि‍क तौर पर नमाज की अनुमति‍ नहीं है। मस्‍जि‍द परि‍सर के भीतर रहने वाले ही वहां नमाज़ पढ़ सकते हैं।

शिवपुर स्‍थि‍त मारवाड़ी धर्मशाला में आयोजि‍त पीस कमेटी की बैठक में जि‍ले के एडीएम सि‍टी वि‍नय सिंह, एसपी सि‍टी दि‍नेश सिंह, एसीएम फोर्थ शुभांगी शुक्‍ला और एएसपी मोहम्‍मद मुश्‍ताक ने लोगों को वि‍स्‍तार से नि‍यमों की जानकारी दी। अफसरों ने पीस कमेटी में आये इलाके के संभ्रांत लोगों से अपील की कि‍ उनके इलाके में अगर कोई भी नि‍यमों की अनदेखी करता है, या ऐसा कोई व्‍यक्‍ति‍ जि‍से होम क्‍वारेंटीन कि‍या गया है और वो बाहर घूमता है तो तत्‍काल इसकी जानकारी दें।

एसपी सि‍टी दि‍नेश सिंह ने लोगों को बताया कि‍ लॉकडाउन को डेढ़ महीने से ज्‍यादा हो गये हैं और इस दौरान वाराणसी के सभी छोटे बड़े मंदि‍र, मस्‍जि‍द, गुरुद्वारे और गि‍रजाघर बंद हैं। यहां तक कि‍ श्रीकाशी वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र, काल भैरव मंदि‍र और संकटमोचन मंदि‍र तक बंद है। हनुमान ध्‍वजा प्रभातफेरी को भी अनुमति‍ नहीं दी गयी। नवरात्रि‍ में भी सभी देवी मंदि‍र के कपाट बंद रहे। कहने का मतलब कि‍ ये कोई धार्मि‍क वि‍षय नहीं है, ये सबकी सुरक्षा से जुड़ा हुआ मामला है और इसे हर जि‍म्‍मेदार नागरि‍क को समझना होगा।

वहीं एडीएम सि‍टी वि‍नय सिंह ने स्‍पष्‍ट रूप से कहा कि‍ कि‍सी भी मस्‍जि‍द में अलवि‍दा की नमाज़ पढ़ने की अनुमति‍ नहीं है। केवल वही लोग मस्‍जि‍द में नमाज़ पढ़ सकेंगे जो उस मस्‍जि‍द परि‍सर के भीतर रहते हों। पड़ोस का व्‍यक्‍ति‍ भी मस्‍जि‍द के भीतर आकर नमाज़ नहीं पढ़ सकता। अगर कहीं ऐसा होते हुए मि‍लेगा तो आवश्‍यक कार्रवाई की जाएगी।