" /> उत्तरभारतीयों को मुख्यमंत्री का तोहफा, रेलवे किराए के लिए दिए ६७ करोड़ रुपए

उत्तरभारतीयों को मुख्यमंत्री का तोहफा, रेलवे किराए के लिए दिए ६७ करोड़ रुपए

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने उत्तर भारतीय मजदूरों से जो वादा किया था, उसे एक-एक करके पूरा कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने उत्तर भारतीय मजदूरों से वादा किया था कि आप लोग शांति बनाए रखें। सरकार आप लोगों को सुरक्षित घर भेजने तक खाना, नाश्ता, निवास, दवा सब खर्च उठाएगी। मुख्यमंत्री के प्रयास से उत्तर भारतीयों के लिए विशेष ट्रेन चलाई गई। इन ट्रेनों से जाने वाले उत्तर भारतीय मजदूरों का रेलवे टिकट खर्च मुख्यमंत्री सहायता कोष से दिए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री सहायता कोष से अब तक ६७ करोड़ १९ लाख रुपए दिए गए हैं।

गौरतलब हो कि उत्तर भारतीय मजदूरों को उनके गांव छोड़ने के लिये विशेष ट्रेन चलाने की मांग मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने की थी। उसके बाद रेलवे टिकट का खर्च मुख्यमंत्री सहायता कोष से देने को कहा था। इसी के तहत पहले चरण में ३६ जिले के जिलाधिकारियों के खाता में ५४ करोड़ ७५ लाख ४७ हजार ७० रुपए जमा किए गए थे। इसके बाद अब छह जिले के लिए अतिरिक्त १२ करोड़ ४४ लाख ०८ हजार ४२० रुपए की निधि दी गई है। मतलब उत्तर भारतीय मजदूरों के रेलवे किराए के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष से अब तक ६७ करोड़ १९ लाख ५५ हजार ४९० रूपए दिए गए हैं। यह निधि संबंधित जिलाधिकारियों के खातों में जमा किए गए हैं। जिन छह जिले के जिलाधिकारियों को अतिरिक्त निधि दी गई है, उसमें मुंबई उपनगर जिले में १० करोड़, नगर में ३० लाख, सातारा में ४९ लाख ६८ हजार ४२०, सांगली में ४४ लाख ४० हजार, सोलापूर में २० लाख ओर कोल्हापुर जिले के लिए १ करोड़ की निधि दी गई है।