" /> उद्धव ठाकरे की प्रतीक्षा में हर्षित अयोध्‍यावासी

उद्धव ठाकरे की प्रतीक्षा में हर्षित अयोध्‍यावासी

शिवसेनापक्षप्रमुख व महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की प्रस्तावित अयोध्या यात्रा को लेकर अयोध्या में उत्सव का माहौल बन गया है। छोटे दुकानदारों से लेकर बड़े-बड़े होटल व्यापारी तक उत्साहित हैं। चारों ओर से यही आवाज आ रही है कि मंदी की मार में शिवसेना के कार्यक्रम ने हमें संभाल लिया। अब हमारे बच्चों की होली सुखमय बीतेगी। उनका कहना है कि भगवान, उद्धव ठाकरे का कार्यक्रम सफल करें, अयोध्या के लोग महाराष्ट्र से आनेवाले हर शिवसैनिक का स्वागत करेंगे।
२०१८ में जब उद्धव ठाकरे अयोध्या आए थे, तब पहली बार अयोध्या में किसी राजनैतिक दल के कार्यक्रम में आए लोगों की भीड़ से यहां के सभी छोटे-बड़े होटल, धर्मशाला और सराय भर गए थे। इसके पहले अयोध्‍या में कई राजनैतिक और धार्मिक संगठनों के अखिल भारतीय स्‍तर के कार्यक्रम हुए लेकिन अयोध्‍या में किसी कार्यक्रम के दौरान होटल नहीं भरे थे। सभी कार्यक्रम धर्मशाला, स्‍कूल तथा मंदिरों तक ही सिमटकर रह जाते थे। पहली बार २०१८ में जब शिवसेनापक्षप्रमुख ने लोकसभा चुनाव के पूर्व अयोध्‍या आकर ‘पहले मंदिर फिर सरकार’ का नारा दिया था, तब विश्‍व हिंदू परिषद ने भी उसी दिन अयोध्‍या में राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन बुला लिया था परंतु उस समय किसी संगठन को अयोध्‍या में होटल, धर्मशाला, सराय में कमरा ही नहीं मिल पाया क्‍योंकि शिवसेना ने पहले ही एडवांस बुकिंग करा रखी थी। तब भी अयोध्‍या के होटल व्‍यापार से लेकर फुटपाथ व्‍यापारी तक ने यही कहा था कि यह पहला आयोजन है, जिसमें एडवांस भुगतान हो रहा है और इतनी बड़ी भीड़ ने किसी भी ठेले-खोमचेवाले, होटल या दुकानदार से पैसे के लेनदेन को लेकर कोई बहस नहीं की। इस बार भी अयोध्‍यावासी ऐसी ही उम्‍मीद लगाए बैठे हैं। नए घाट पर लइया-मूंगफली की दुकान लगानेवाले दीनानाथ ने कहा कि अयोध्‍या में तो चार दिन पहले से ही रौनक बढ़ गई है। सुना है कि मुंबई से इस बार भी बहुत लोग मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ रामलला का दर्शन करने आ रहे हैं। हनुमानगढ़ी पर स्थित मिठाई के दुकानदार भरत लाल ने कहा कि इतनी मंदी थी कि होली के त्‍यौहार के फीके होने की आशंका थी लेकिन शिवसेना के लोग रामलला का दर्शन करने आ रहे हैं तो भगवान राम की तरह हमारे लिए खुशियां भी ला रहे हैं।