उद्धव ठाकरे से चर्चा करके नाणार जमीन अधिग्रहण को दिया है स्थगन

नाणार स्थित प्रस्तावित तेल रिफायनरी योजना के लिए जमीन अधिग्रहण का स्थगन शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे से चर्चा के बाद दिया गया है। यह एलान कल विधानसभा में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने किया।
विपक्षी सदस्यों को जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने सरकार की भूमिका स्पष्ट करते हुए कहा कि जमीन अधिग्रहण की स्थगित दी गई है। जमीन अधिग्रहण के लिए कोई नोटिस नहीं दी गई है। जमीन अधिग्रहण की कोई कार्रवाई शुरू नहीं है। स्थगन के बाद किसी भी जमीन का अधिग्रहण के लिए सख्ती नहीं की जाएगी। जमीन अधिग्रहण के लिए सख्ती करने पर पुलिस स्टेशन में शिकायत करने पर अपराध दाखिल करने का निर्देश पुलिस अधिकारियों को दिया गया है, ऐसा मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया। विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटील ने औचित्य के मुद्दे पर तहत नाणार का मुद्दा उपस्थित किया। विपक्षी सदस्यों की जमकर खिंचाई करते हुए कहा कि शिवसेना-भाजपा एक साथ हैं, तुम चिंता मत करो, उनके इस्तीफा की आवश्यकता नहीं है, हम एक साथ हैं, तुम दस पंद्रह वर्ष तक विपक्ष में बैठनेवाले हो, ऐसे शब्दों में विपक्ष को मुख्यमंत्री ने फटकारा।
योजना प्रभावितों ने की सदन में नारेबाजी
नाणार योजना रद्द करो, इस मांग को लेकर योजनाग्रस्तों की आजाद मैदान में लड़ाई शुरू है। विधानसभा का कल कामकाज शुरू हुआ तो कई योजनाग्रस्त सभागृह के प्रेक्षक गैलरी में उपस्थित थे। विधानसभा में नाणार मुद्दा उपस्थित होते ही ‘रद्द करा, नाणार योजना रद्द करा…’ सदन के बाहर और अंदर जोरदार नारेबाजी योजनाग्रस्तों ने शुरू कर दी। सुरक्षा रक्षकों ने आंदोलनकारियों को कब्जे में लेकर सदन से बाहर निकाला। इसमें एक महिला भी शामिल थी। आंदोलनकारियों में प्रणाली चव्हाण, सोनाली टुकरण, निलेश धुमाल और श्रीकांत कुवरे का समावेश था।
वाल्मिकी समाप्त वैâसे होंगे? – गोटे
भाजपा के कार्यक्रम में बोलते हुए मुझ पर देशी कट्टा ताना जाता है। उस समय एक डॉक्टर ने कट्टा नहीं हटाया होता तो आज मैं सदन में खड़ा नहीं रहता। मेरा दुर्भाग्य है कि यह मेरी सरकार है और मेरे ऊपर ऐसी घटना हो रही है, ऐसी वेदना व्यक्त करते हुए भाजपा विधायक अनिल गोटे ने कहा कि भाजपा ने २८ अपराधियों को पार्टी में लिया, वाल्या को वाल्मिकी करने की बात कहते हैं, जब वाल्या की टोली पार्टी में ले रहे हो तो वाल्मिकी समाप्त कब होंगे? ऐसा तीखा सवाल भाजपा विधायक ने किया। भाजपा विधायक ने कल सदन में औचित्य के मुददे पर बोलते हुए कहा कि धुले में आपराधिक घटनाएं बढ़ती जा रही है।
सरकारी जगहों पर हो पब्लिक पार्किंग- लोढ़ा
मुंबई शहर में भयावह ट्रैफिक जाम और परेशान करनेवाली पार्किंग समस्या के समाधान के लिए मंत्रालय और राजभवन सहित सभी सरकारी जगहों पर पब्लिक पार्किंग की सुविधा शुरू करनी चाहिए। भाजपा के वरिष्ठ विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा ने विधानसभा में चर्चा के दौरान यह मांग की।
सिंचाई घोटाला में पहली कार्रवाई
कांग्रेस-राकांपा की आघाड़ी सरकार के कार्यकाल में वर्ष २००४ से २००८ के दौरान सिंचाई क्षेत्र में तकरीबन ३५ हजार करोड़ रुपए घोटाले का खुलासा वर्ष २०१२ में हुआ था। राज्य में वर्ष २०१४ में शिवसेना-भाजपा सरकार बनने के बाद दिसंबर माह में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने घोटाले की खुली जांच के आदेश दिए थे। इसके बाद अजीत पवार, सुनील तटकरे और छगन भुजबल के खिलाफ जांच शुरू हुई। चार वर्ष की खामोशी के बाद एसीबी ने एक्शन दिखाते हुए हाईकोर्ट में दायर हलफनामा में अजीत पवार को इस मामले में जिम्मेदार ठहराया है।
बिना जांच अजीत पवार को जेल में डालें?
राज्य के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन ने राकांपा से सवाल किया कि क्या राकांपा नेता व वरिष्ठ विधायक अजीत पवार को बिना जांच के जेल में डालने की इच्छा है? महाजन ने कहा कि सरकार बदले की कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) के मार्फत घोटाले की स्वतंत्र जांच चल रही है। एसीबी पर सरकार का कोई दबाव नहीं है। सिंचाई घोटाले मामले में मुंबई हाईकोर्ट की नागपुर खंडपीठ में दायर हलफनामे में अजीत पवार को जिम्मेदार ठहराए जाने से महाराष्ट्र की राजनीति में उफान आ गया है। नागपुर हाईकोर्ट में सिंचाई घोटाले को लेकर दो जनहित याचिकाओं की सुनवाई के दौरान पूर्व उपमुख्यमंत्री अजीत पवार को जिम्मेदार ठहराए जानेवाला २७ पेज का एफिडेविट एसीबी महासंचालक संजय बर्वे ने हाईकोर्ट में दाखिल किया है।
स्कूलों में होगा एक दिन नो गैजेट डे
राज्य सरकार स्कूलों में एक दिन नो गैजेट डे घोषित करने पर विचार कर रही है। इसके अलावा शारीरिक शिक्षा के लिए कक्षाओं की संख्या भी बढ़ाई गई है। विद्यार्थियों को खेलकूद के लिए मैदानों तक खींचने के लिए सरकार की ओर से उक्त प्रयास किए जाने की जानकारी ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान पूछे गए सवाल के जवाब में शिक्षामंत्री विनोद तावडे ने दी।
केंद्र की बाघिन को क्या जवाब दोगे?
यवतमाल जिले के अवनि बाघिन की हत्या पर जारी चर्चा के दौरान राकांपा के वरिष्ठ नेता जयंत पाटील ने वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार से सवाल किया कि अवनि हत्या मामले में केंद्र की बाघिन यानी मेनका गांधी को क्या जवाब दोगे? ऐसा कटाक्ष जयंत पाटील ने मुनगंटीवार पर किया। जयंत पाटील के बोलने के दौरान भाजपा विधायक राम कदम बोलने लगे। तालिका अध्यक्ष ने राम कदम को बैठाने का प्रयास किया परंतु कदम बोलते जा रहे थे। इस पर जयंत पाटील ने कदम पर कटाक्ष करते हुए कहा कि राम कदम तुम्हारा नंबर बाघिन ने नहीं लिया था। पाटील के इस कटाक्ष से पूरा सदन हंस पड़ा।