" /> 30 कौवों की मौत के बाद मरे मिले 15 कुत्ते

30 कौवों की मौत के बाद मरे मिले 15 कुत्ते

मांस के सौदागरों पर है संदेह
जारी है जांच  

उल्हासनगर कैंप-3, उल्हासनगर रेलवे स्टेशन के सामने स्थित चांदीबाई महाविद्यालय परिसर  के पेड़ पर रहनेवाले 30 कौए कहते हैं कि पानी व खाने  अभाव में मरे मिले थे। कौए की संदिग्ध अवस्था में मौत से पंछी मित्र व समाजसेवकों की नींद उड़ गई। उसी प्रकार 15 कुत्तों के मरने से उल्हासनगर-4 के आशेला पाड़ा में हड़कंप मचा हैं। चर्चाओं का माहौल गर्म है कि ये बेजुबान जानवर भूख से मरे हैं या जहर देकर मांस के सौदागरों द्वारा तो नहीं मारा गया है।
गौरतलब हो कि बीते 11 अप्रैल, 2020 कोरोना को लेकर लॉकडाउन किया गया था। महाविद्यालय पूरी तरह से बंद हो गया था। प्रोफेसर, छात्रों  की आवाजाही बंद थी। अचानक 30 कौवों की मौत देखी गई। इस खबर से शहर में सनसनी फैल गई थी। अब उल्हासनगर में 30 कौवों की मौत के बाद 15 कुत्तों की मौत से हड़कंप मच गया है। यह कुत्तों की मौत की घटना उल्हासनगर कैंप-4 के शिवसमर्थ नगर, गणपति मंदिर के पास, आशेला पाड़ा की है।
बताते हैं कि उक्त 15 कुत्तों की मौत शिवसमर्थ नगर जैसे परिसर में ही  हुई है। जानकरों का मानना है कि इतने बड़े पैमाने पर मिले कुत्तों के शव इस ओर संकेत कर रहे हैं कि कहीं चोरी की वारदात को अंजाम देने के लिए आए चोरों पर भूंकने के कारण ही तो जहर नहीं दिया। समाजसेवी भुवनेश्वर तिवारी ने बताया कि उल्हासनगर मनपा प्रशासन से कुत्तों के मरने के कारण की जांच करने की मांग की गई है।