एक क्लिक पर मिलेगी ‘लालपरी’ की स्थिति

महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों तक अपनी सेवा देनेवाली एसटी महामंडल की `लालपरी’ जल्द ही हाइटेक होने जा रही है। लालपरी कहां पहुंची है और उसे अपने गंतव्य स्थान तक पहुंचने में कितना समय लगेगा। यह सारी जानकारी यात्रियों को महज एक क्लिक पर उपलब्ध होगी।
जानकारी के अनुसार एसटी महामंडल लगभग १८ हजार ५०० बसों में व्हेहिकल ट्रैकिंग सिस्टम लगाने जा रहा है। सब कुछ योजना के मुताबिक रहा तो दिसंबर २०१९ तक एसटी महामंडल की सभी बसें व्हेहिकल ट्रैकिंग सिस्टम से युक्त हो जाएंगी। इसके अलावा महामंडल यात्रियों की सुविधा के लिए एक ऐप भी विकसित करने की योजना में लगा है ताकि ऐप की मदद से यात्रियों को महज एक क्लिक पर उनकी गाड़ी कहां पहुंची है, इसका पता लग जाएगा। माना जा रहा है कि व्हेहिकल ट्रैकिंग सिस्टम इस ऐप के लिए मददगार साबित होगा। एसी महामंडल के अधिकारियों के अनुसार व्हेहिकल ट्रैकिंग सिस्टम पर लगभग ३४ करोड़ रुपए खर्च होंगे। अधिकारी का कहना है कि इस सिस्टम को लगाने का मकसद कई हैं जैसे एसी बस कब छूटेगी और कब अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचेगी। आपातकाल की स्थिति में मदद पहुंचाने में भी यह सिस्टम फायदेमंद साबित होगा।