एक मच्छर आपको ‘हिट’ कर सकता है

मच्छर पूरी दुनिया के लिए मुसीबत बने हुए हैं। इन्हें मारने व इनकी रोकथाम के लिए दवाएं व कीटनाशकों का उपयोग किया जाता है। इनमें आम आदमी के बीच बाजार में बिकनेवाला ‘हिट’ काफी लोकप्रिय है मगर यह ‘हिट’ इंसानी स्वास्थ्य के लिए काफी खतरनाक है क्योंकि इसके प्रयोग से मच्छर तो मरते ही हैं पर यह इंसान के शरीर पर भी वापस ‘हिट’ करता है जिससे कई खतरनाक बीमारियों का जन्म होता है।
बता दें कि मच्छरों को भगाने के लिए घरों में कॉइल, रैकेट और कई प्रकार के केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है। इनमें सबसे लोकप्रिय ‘हिट’ है। मच्छर और कॉक्रोच को मारने के लिए इस्तेमाल किए जानेवाले ये केमिकल स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक हैं। मच्छर को मारने के लिए उस पर डाला गया केमिकल्स सांस के साथ हमारे शरीर में पहुंचकर स्वास्थ्य को हिट करता है। रोजाना इन केमिकल्स का प्रयोग करनेवालों को यह अनगिनत बीमारियों की चपेट में ले लेता है जिससे बाहर निकलना किसी मुसीबत से कम नहीं। चेस्ट रिसर्च के डायरेक्टर डॉक्टर संदीप साल्वी ने बताया कि मच्छर और कॉक्रोच को मारने में इस्तेमाल होनेवाले केमिकल्स क्रॉनिक कफ को जन्म देते हैं। इसकी चपेट में आनेवाले व्यक्ति के लिए तीन से चार हफ्तों तक इससे बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है। यही नहीं इसका नियमित रूप से इस्तेमाल कई प्रकार की जानलेवा बीमारियों को जन्म दे सकता है। डॉ. साल्वी ने बताया कि मच्छरों को मारने के लिए इस्तेमाल होनेवाले केमिकल्स ही नहीं अन्य केमिकल भी हमारे शरीर को क्षति पहुंचाते हैं, जिनमें मुख्य रूप से शरीर की दुर्गंध भगाने के लिए इस्तेमाल किए गए परफ्यूम, डियो और रूम फ्रेशनर है।