" /> एचआईवी की दवाओं से कोरोना का मरीज ठीक, हिंदुस्थानी डॉक्टरों का दावा

एचआईवी की दवाओं से कोरोना का मरीज ठीक, हिंदुस्थानी डॉक्टरों का दावा

राजस्थान में कोरोना वायरस के कई मामले सामने आ चुके हैं। जयपुर के सवाई मान सिंह (एसएमएस) हॉस्पिटल में कोरोना के मरीज भर्ती हैं। यहां के डॉक्टरों ने कोरोना वायरस से पीड़ित एक महिला को एचआईवी, स्वाइन फ्लू और मलेरिया की दवाओं से ठीक कर दिया है। सीओवीआईडी-१९ टेस्ट में अब इस महिला की रिपोर्ट निगेटिव आई है। बताया गया कि यह महिला उसी २३ सदस्यीय इटैलियन ग्रुप के साथ राजस्थान आई थी, जिसमें से कई लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।
बताया गया कि इस ग्रुप में महिला का पति ही वह पहला शख्स था, जिसका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरलोजी (एनआईवी) पुणे ने ३ मार्च को इस शख्स को कोरोना से पीड़ित बताया था। अगले ही दिन शख्स की पत्नी भी कोरोना से पीड़ित निकली। एसएमएस हॉस्पिटल ने इसी महिला का एचआईवी की दवाओं से इलाज किया। स्वास्थ्य विभाग के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी रोहित कुमार सिंह कहते हैं कि हमने उन्हें लोपिनाविर २०० एमजी, रिटोनाविर ५० एमजी का डोज दिन में दो बार दिया। रोहित कुमार सिंह इस फॉर्मूले से आईसीएमआर भी संतुष्ट था। इसके अलावा डॉक्टर ने उन्हें ओस्लेटामिविर जोकि स्वाइन फ्लू में काम आती है और मलेरिया में इस्तेमाल होनेवाली दवा क्लोरीकीन दी। एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल और कंट्रोलर डॉ. सुधीर भंडारी ने कहा कि हमने सामान्य प्रोटोकॉल फॉलो करते हुए उनका इलाज किया और वह ठीक हो गर्इं। यह एसएमएस हॉस्पिटल के डॉक्टरों के लिए बड़ी उपलब्धि है। महिला के ६९ वर्षीय पति का इलाज अभी भी एसएमएस हॉस्पिटल में चल रहा है। अभी वह ठीक नहीं हुए हैं। एसएमएस हॉस्पिटल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. डीएस मीणा ने कहा कि अब महिला ठीक हो गई हैं। महिला के पति को फेफड़े की बीमारी है इसलिए उनकी रिकवरी में समय लग रहा है। हालांकि उनकी भी हालत अब स्थिर है।