एनडीए की क्लास में अकाली अनुपस्थित

बजट सत्र से पहले हुई एनडीए की मीटिंग क्लास में शिरोमणि अकाली दल ने हिस्सा नहीं लिया यानी अनुपस्थित रहे। बता दें कि शिरोमणि अकाली दल भाजपा का सबसे पुराना सहयोगी दल है। फिलहाल दोनों के रिश्तों में खटास आई है। यही नहीं भाजपा और शिरोमणि अकाली दल के गठबंधन पर भी खतरे के बादल मंडराने लगे हैं।
हाल ही में शिरोमणि अकाली दल के महासचिव मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा है कि हमारे लिए गठबंधन अहम नहीं है। उन्होंने भाजपा को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर भाजपा ने तख्त, गुुरुद्वारा मामले में दखलंदाजी बंद नहीं की तो गठबंधन हमारे लिए मायने नहीं रखेगा। उन्होंने कहा कि हम भाजपा सरकार की ईंट से ईंट बजा देंगे। उन्होंने कहा कि विधायक, सांसद व मंत्री बनना भी हमारे लिए जरूरी नहीं हैं। हमारे लिए अपने गुरु का घर जरूरी हैं। भाजपा ने पहले पटना साहिब पर कब्जा करने की कोशिश की, जिसको सुखबीर बादल ने अमित शाह से बात करके सॉर्ट आउट करवाया। अब नांदेड के तख्त हजूर साहब में इन्होंने पहले अपने एमएलए को उसका प्रधान बनवा दिया और अब एक्ट को ही बदलने जा रहे हैं कि हमेशा के लिए वहां पर प्रधान कौन होगा? वहां की सरकार तय करेगी।