एमएमआरडीए ने बनाया भिवंडी को नरक

एशिया के मैनचेस्टर भिवंडी को एमएमआरडीए ने इन दिनों नरक बना दिया है। एमएमआरडीए द्वारा शहरभर में बनाई जा रही सड़कों व ओवरब्रिज का निर्माण कछुआ गति से किए जाने के कारण पूरे शहर की सड़वेंâ गड्ढों में तब्दील हो गई हैं। इनसे उड़नेवाली धूल से शहर में धूल का कोहरा बना रहता है। ऐसी परिस्थिति में लोग जहां ट्रैफिक से परेशान हैं, वहीं धूल फांकने को भी मजबूर हैं।
मालूम हो कि भिवंडी स्थित राजीव गांधी चौक, कल्याण नाका से साईबाबा मंदिर तक उड़ानपुल के निर्माण का ठेका एमएमआरडीए ने जेएमसी कंपनी को दिया है। सूत्रों के अनुसार इस पुल के नीचे की सड़क को आरसीसी सड़क बनाने का ठेका भी इसी वंâपनी को दिया गया है। सूत्रों की मानें तो उक्त उड़ानपुल को मात्र १८ माह में तैयार करना था लेकिन तीन साल बाद भी न तो ब्रिज बन पाया है और न ही कल्याण रोड का सर्विस रोड या आरसीसी रोड। लिहाजा पूरी सड़क गड्ढों में तब्दील होने के कारण वहां हमेशा धूल उड़ती रहती है। ट्रैफिक जाम रहता है। सूत्रों के अनुसार शहर की मुख्य ५१ सड़कों का भी निर्माण एमएमआरडीए द्वारा किया जाना है, जिसमें से १० मार्गों का भूमिपूजन भी गृहराज्य मंत्री के हाथों हो चुका है लेकिन दो महीने बाद भी सड़क बनाने में मनपा प्रशासन रुचि नहीं दिखा रहा है, जिसके कारण पूरा शहर न सिर्पâ धूलमय है बल्कि गड्ढेयुक्त इन सड़कों पर चलना भी कठिन है। इन सबकी शिकायत सीएम व पीएम कार्यालय में जनता द्वारा कई बार किए जाने के बावजूद भिवंडी को नरक बनानेवाली एमएमआरडीए पर सरकार लगाम नहीं कस रही है, जिसे लेकर लोगों में हैरानी के साथ आक्रोश व्याप्त है।