एमबीए पास आतंकी पर 15 लाख का इनाम

पढ़ाई एमबीए, मौत पर मिलेगा इनाम 15 लाख का
एक और एमबीए आतंकी की मौत पर इनाम घोषित हुआ कश्मीर में
–सुरेश एस डुग्गर–
जम्मू, 23 अक्तूबर।

एमबीए की पढ़ाई कर आतंकवाद की राह पर चलने वाले एक और आतंकी मौत पर 15 लाख का इनाम घोषित किया गया है। अभी तक कश्मीर में करीब 15 ऐसे आतंकी ढेर किए जा चुके हैं जिन्होंने एमबीए तथा पीएचडी की पढ़ाई की थी। और अब हरून वानी उन्हीं की श्रेणी में आ खड़ा हुआ है। दरअसल डोडा इलाके के भाजपा नेता परिहार बंधुओं और संघ के नेता चंद्रकांत शर्मा की हत्या समेत कई वारदात में शामिल हिजबुल मुजाहिदीन के ए-कैटेगिरी के आतंकी हरुन अब्बास वानी को जिंदा या मुर्दा पकड़वाने पर डोडा पुलिस ने 15 लाख का इनाम घोषित किया है। पुलिस ने डोडा शहर में हरुन वानी के पोस्टर भी लगा दिए हैं। इसमें सूचना देने के लिए पुलिस ने अपने फोन नंबर भी दे रखे हैं। पुलिस को पक्की सूचना है कि आतंकी हरुन किश्तवाड़ से भागने के बाद डोडा में छिपा बैठा है।

डोडा जिला पुलिस ने दो आतंकियों की तस्वीर जारी की है। मास्टर इन बिजनेस एडमिनिर्स्ट्रेशन (एमबीए) की पढ़ाई करने वाले आतंकी हारून अब्बास वानी पर पुलिस ने पंद्रह लाख का इनाम घोषित किया है। इनाम घोषित करने के पीछे कई सवाल खड़े हो रहे हैं क्योंकि कई बड़े आतंकियों पर भी इतना इनाम घोषित नहीं हुआ। यहां तक कि कश्मीर में हिजबुल का चेहरा माने जाने वाले बुरहान वानी पर भी दस लाख का ही इनाम था।
माना जा रहा है कि चिनाब घाटी में हारून युवा आतंकियों की भर्ती कर रहा है। वह इलाके में मौजूद है और किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में है। या फिर चिनाब घाटी में वह आतंक का बड़ा नाम बन गया है, जिसे देखते हुए पुलिस की तरफ से ऐसा किया गया है।
हारून वानी डोडा के घाट का रहने वाला है और मसूद डोडा जिले के देसा मजमी क्षेत्र का रहने वाला है। मसूद इसी साल जून में आतंकी बना और हारून ने पिछले साल सितंबर में आतंक की राह पकड़ी थी। सूत्रों का कहना है कि हारून इलाके में युवाओं को आतंकवाद की तरफ धकेल रहा है। इसको जल्द मार गिराना बहुत जरूरी है। इसलिए उस पर इतना इनाम घोषित किया गया है। हालांकि पुलिस के आला अधिकारी इस पर कोई जानकारी नहीं दे रहे हैं।
एमबीए के छात्र हारून का पिता राज्य में ही सरकारी इंजीनियर है। 3 सितंबर 2018 को हारून की फोटो सामने आई, जिसमें वह बंदूक के साथ नजर आया। इसमें यह भी दिखाया गया कि वह हिजबुल के साथ जुड़ गया है। हारून की तस्वीर जारी होने के बाद उसकी मां ने मीडिया में सबके सामने हारून से घर वापसी की गुहार लगाई। मां ने बिलखते हुए उसे वापस लौटने को कहा, लेकिन वह वापस नहीं आया।