एशियाई शेर के स्वागत में रानीबाग हो रहा तैयार

सफेद बाघ, काला चीता इन विदेशी जानवरों के बाद अब वीरमाता जीजाबाई भोसले उद्यान (रानी बाग) में देशी मेहमान भी जल्द आनेवाले हैं। एशियाई शेर, लोमड़ी, सियार जैसे जानवर आगामी कुछ वर्षों में देखे जा सकेंगे। इन जानवरों को पर्यटक आसानी से देख सकें इसके लिए एक्रेलिक ग्लास युक्त व्युइंग गैलेरी का निर्माण भी किया जाएगा। बता दें कि रानीबाग में मुंबई सहित देश-विदेश से पर्यटक रोजाना बड़ी संख्या में आते हैं। अगस्त २०१७ में पेंग्विन पक्षी के आने के बाद यहां पर्यटकों की संख्या का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। रानीबाग को अंतरराष्ट्रीय स्तर का प्राणी संग्रहालय बनाने के दो चरणों का काम अंतिम चरण पर पहुंच गया है जबकि तीसरे चरण के काम का शुभारंभ किया गया है। केंद्रीय प्राणी संग्रहालय प्रधिकरण की तकनीकी समिति ने रानीबाग के विस्तार की रूपरेखा को भी मंजूरी दे दी है। जेब्रा, जिराफ, फ्लेमिंगो, सफेद बाग, काला चीता, मॅड्रील मंकी इन विदेशी पशु-पक्षियों के अलावा एशियाई शेर, तेंदुआ, लोमड़ी, सियार, बारा सिंगा, नीलगाय, छोटी बिल्ली आदि देशी जानवरों को यहां लाने का निर्णय लिया गया है। इन जानवरों को पर्यटक आसानी से देख सकें इसके लिए व्युइंग गैलरी बनाई जाएगी। पक्षियों का नजारा और जलीय अवतरी को देखने के लिए दर्शनीय पदपथ भी बनाए जाएंगे।