" /> और हार गया पुरुष

और हार गया पुरुष

बैडमिंटन जैसे खेल में पुरुषों के वर्चस्व को तोड़ते हुए महिला खिलाड़ी ने पुरुष को जब हराया तो दुनिया के सामने महिला बैडमिंटन की एक नई छवि बनी। जी हां, दुनिया की नंबर १ महिला बैडमिंटन खिलाड़ी ताई त्ज़ु-यिंग ने ताइवान के ओलंपिक-कैलिबर एथलीट की आठ दिवसीय प्रतियोगिता में पुरुष प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ अपना पहला मैच जीता। कोविड महामारी के चलते वैसे भी कई स्पर्धाएं रद्द हुई। इस वजह से बैडमिंटन के खिलाड़ियों के लिए अपनी लय बनाकर रखना एक कठिन कार्य हो गया था। ताई ने मार्च में ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप में महिला एकल जीता था। उसके बाद वो मैदान पर न उतर सकी। एक तरह से कड़ा अभ्यास का सोच तीन दिवसीय बैडमिंटन प्रतियोगिता के दौरान ताई को दो पुरुषों के खिलाफ खड़ा किया गया। ताई का पहले प्रतिद्वंद्वी दो बार के पुरुष एकल राष्ट्रीय चैंपियन लिन चिया-हसन था। हालांकि २८ वर्षीय लिन जो आज भले किसी अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धा में न खेलते हों मगर ताई के लिए तो वो उम्दा अभ्यास ही था। ये ताई के लिए अभी भी काफी अच्छा था कि प्रत्येक खेल की शुरुआत में आठ अंक हासिल किए जा सकते थे। ताई ने अंतत: २१-१९, १८-२१, २१-११ से जीत हासिल की लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि ये कठिन था और यह एक वास्तविक चुनौती थी।