कभी-कभी, छोटे बजटवाली फिल्मों की बड़ी स्टार…!

हिंदुस्तानी फिल्म इंडस्ट्री में आई अभिनेत्री विद्या सिन्हा ने अपने अभिनय और अपनी सादगी से सबका मन मोह लिया था। ‘रजनीगंधा’, ‘पति पत्नी और वो’, ‘तुम्हारे लिए’, ‘मीरा’, ‘लव स्टोरी’, ‘बॉडीगार्ड’ जैसी फिल्मों में काम करनेवाली विद्या सिन्हा का जन्म १५ नवंबर, १९४७ को मुंबई में हुआ था। विद्या सिन्हा ने अपने करियर की शुरुआत बतौर मॉडल की थी और वे ‘मिस बॉम्बे’ भी रह चुकी थीं। मॉडलिंग करियर के दौरान विद्या सिन्हा की तस्वीर एक फिल्म मैगजीन में छपी, जिस पर बासु चटर्जी की नजर पड़ गई और उन्होंने विद्या को फिल्म ‘रजनीगंधा’ में हीरोइन का रोल ऑफर कर दिया। फिल्म में विद्या के अपोजिट थे अमोल पालेकर और दिनेश ठाकुर। विद्या सिन्हा कभी किसी एक्टिंग स्कूल में नहीं गर्इं थीं लिहाजा दिनेश ठाकुर ने फिल्म की शूटिंग के दौरान विद्या की खूब मदद की। फिल्म ने इतिहास रच दिया। ‘रजनीगंधा’ हिट हो गई और दर्शकों ने विद्या और उनकी सादगी को खूब सराहा। इसके बाद फिर विद्या सिन्हा ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। संजीव कुमार, शशि कपूर, विनोद खन्ना, उत्तम कुमार, शत्रुघ्न सिन्हा, विनोद मेहरा जैसे कई नामी-गिरामी अभिनेताओं के साथ काम किया, जिनकी फेहरिस्त काफी लंबी है। विद्या सिन्हा की फिल्म ‘पति पत्नी और वो’ को भी दर्शकों ने काफी सराहा। फिल्म में विद्या ने एक जबरदस्त किरदार निभाया था। लेकिन ‘रजनीगंधा’ और ‘छोटी सी बात’ में इनकी परफॉर्मेंस ने इन्हें एक अमर अभिनेत्री बना दिया।
१९६८ में जब विद्या सिन्हा मात्र २१ बरस की थीं तब इनका विवाह व्यंकटेश्वरन अय्यर से हो गया। ये वो दौर था जब विद्या फिल्मों में काम नहीं करती थीं। लेकिन इनके पति ने इनकी हौसला-अफजाई करते हुए इन्हें ‘रजनीगंधा’ में काम करने के लिए प्रेरित किया। तकरीबन १२ साल विद्या लगातार फिल्मों में काम करती रहीं लेकिन ८० का दशक आते-आते फिल्मों से मिडल क्लास किरदार फिल्मों से गायब होने लगा था और विद्या सिन्हा ने फिल्मों से किनारा करना शुरू कर दिया। इस दौरान इन्होंने अपना समय बेटी जाह्नवी और परिवार को देना शुरू कर दिया। १९९६ में विद्या सिन्हा के पति व्यंकटेश्वरन काफी बीमार पड़ गए और उनका देहांत हो गया।
२००१ में विद्या ने डॉ. नेताजी भीमराव सालुंखे दूसरा विवाह कर लिया लेकिन उनकी दूसरी शादी लंबे समय तक टिकी नहीं, उन्होंने सालुंखे पर फिजीकल और मेंटल टॉर्चर करने का आरोप लगाते हुए उनसे २००९ में तलाक ले लिया। अपनी जिंदगी में आए उतार-चढ़ाव के चलते विद्या सिन्हा फिल्मों को भूल गई थीं लेकिन बेटी के आग्रह करने पर उन्होंने टीवी सीरियलों की तरफ रुख किया। २००१ में विद्या सिन्हा पहली बार सीरियल ‘बहूरानी’ में नजर आर्इं। उसके बाद वे ‘काव्यांजलि’, ‘नीम नीम शहद शहद’, ‘हार जीत’, ‘कुल्फी कुमार बाजेवाला’ आदि सीरियलों में नजर आर्इं। विद्या सिन्हा एक ऐसी अभिनेत्री थीं जिन्होंने कम फिल्में करने के बावजूद इंडस्ट्री में अपना एक खास मकाम बना लिया था, जहां कम अभिनेत्रियां ही पहुंच पाती हैं। १५ अगस्त, २०१९ को मुंबई में उनका निधन हो गया। आज विद्या सिन्हा भले ही हमारे बीच मौजूद न हों लेकिन जब कभी सादगी और शालीनता की बात की जाएगी विद्या सिन्हा सबसे पहले याद आएंगी!