करतारपुर कॉरिडोर पर बैठक खत्म, पाकिस्तान ने मानी हिंदुस्थान की ये मांग

हिंदुस्थान और पाकिस्तान के बीच एक बार फिर करतारपुर कॉरिडोर को लेकर आज अहम बैठक हुई। इसमें कॉरिडोर पर जारी गतिरोध दूर करने की रणनीति पर विचार विमर्श किया गया। दोनों देशों के अफसरों के बीच द्विपक्षीय वार्ता संपन्न हो चुकी है। बैठक में भारत ने पाकिस्तान के सामने श्रद्धालुओं के लिए वीजा मुक्त यात्रा की मांग रखी है।

बैठक खत्म होने के बाद गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव (आतंरिक सुरक्षा) एससीएल दास ने बताया, ‘भारत ने डेरा बाबा नानक और आसपास के इलाकों में बाढ़ को लेकर चिंता को पाकिस्तान से अवगत कराया। तटवर्ती इलाकों में सड़क निर्माण का कार्य पाकिस्तान की तरफ से पूरा किया जा था।’ वहीं पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ। मोहम्मद फैसल ने कहा कि ८० फीसदी मुद्दों पर दोनों देशों के बीच सहमति बन गई। बाकी मुद्दों को सुलझाने के लिए दोनों देशों के बीच एक और बैठक किए जाने की जरूरत है।

एससीएल दास ने बताया कि पाकिस्तान इस बात पर राजी हो गया है कि ननकाना साहिब में पवित्र दर्शन के लिए रोजाना ५००० श्रद्धालु जा सकते हैं। विशेष अवसर पर इनकी संख्या को घटाने बढ़ाने पर विचार किया जा सकता है।

बता दें कि भारत की ओर प्रतिनिधिमंडल की एससीएल दास ने अगुवाई की जबकि बैठक में पाकिस्तान की ओर से २० प्रतिनिधि शामिल रहे जिसका नेतृत्व मोहम्मद फैसल ने किया। हालांकि बारिश के चलते वाघा बार्डर पर बैठक देर से शुरू हुई। पहले सुबह ९.३० बजे बैठक का वक्त तय था।