कांग्रेसी वादों ने बढ़ाया नक्सलियों का मनोबल, छत्तीसगढ़ में जमकर बरसे मोदी

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर छत्तीसगढ़ के कोरबा में जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है। इस दौरान पीएम ने यह आरोप लगाया कि नक्सलियों को कांग्रेस पार्टी में क्रांतिकारी कहा जाता था। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनावों में जब वह यहां आए थे तब उन्होंने कांग्रेसी नेताओं के बयानों की तरफ लोगों का ध्यान दिलाया था।
मोदी ने नक्सली हमले में जान गंवानेवाली भाजपा विधायक भीमा मांडवी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिस इलाके में नक्सलियों का प्रभाव कम हुआ था, वहीं पर यह हमला किया गया है। उन्होंने सवाल किया कि आखिर ऐसा क्यों हुआ? प्रधानमंत्री ने इसके लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस द्वारा हौसला बढ़ाए जाने से नक्सली हमले हो रहे हैं। उन्होंने कांग्रेस के घोषणा पत्र पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस के ‘ढकोसला-पत्र’ से भी नक्सलियों का मनोबल बढ़ा है। कांग्रेस ने एलान किया है कि उसकी सरकार बनने के बाद राष्ट्रदोह का कानून खत्म कर दिया जाएगा। पीएम ने कहा कि छत्तीसगढ़ को फिर से हिंसा के भयानक दौर में धकेल देने की साजिश चल रही है। पीएम अपने भाषण के दौरान कांग्रेस पर पूरी तरह से हमलावर रहे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का पंजा नक्सलियों और उन लोगों के साथ हैं जो देश के टुकड़े करना चाहते हैं। कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए पीएम ने कहा कि बरसों पहले कांग्रेस जमीन से कट चुकी है। इससे देश के लोगों की भावनाएं और उनकी जरूरतें उसे समझ में नहीं आतीं। उन्होंने कहा कि एक तरफ कांग्रेस आपसे सुविधाएं छीनने की बात कर रही है तो वहीं भाजपा ने अपनी योजनाओं को विस्तार देने का संकल्प लिया है।