" /> कानपुर में कुख्यात विकास दुबे को पकड़ने गई टीम से हुई मुठभेड़ में सीओ समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद

कानपुर में कुख्यात विकास दुबे को पकड़ने गई टीम से हुई मुठभेड़ में सीओ समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद

कानपुर में देर रात हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी, इसमें सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए।चार पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हुए हैं। घटना कानपुर में चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव की है। यहां पुलिस बदमाश विकास दुबे को पकड़ने गई थी, वहीं बाद में पुलिस ने हमला करनेवाले एक बदमाश को मार गिराया।

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के चौबेपुर स्थित गांव बिकरू से चार किलोमीटर आगे काशीराम निवादा गांव में पुलिस और बदमाशों की मुठभेड़ जारी है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना में शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि देते हुए मामले की पूरी रिपोर्ट तलब की है और बदमाशों को तुरंत पकड़ने के आदेश दिए हैं। समाचार लिखने तक पुलिस मुठभेड़ जारी है। इस बीच पुलिस ने कानपुर देहात से विकास दुबे के बहनोई दिनेश तिवारी को हिरासत में लिया हैै। राज्य के पुलिस महानिदेशक हितेश अवस्थी ने बताया कि एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार घटनास्थल पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि पूरे जोन में अलर्ट करके सर्च अभियान चला रहे हैं। कानपुर मंडल कानपुर के कानपुर देहात, कन्नौज, फर्रुखाबाद, इटावा, औरैया की सभी सीमाएं सील कर दी गई हैं। जीटी रोड पर स्थित गांव में हुई घटना के बाद से जीटी रोड पर जगह-जगह बैरियर लगाकर सघन तलाशी हो रही है। कानपुर की फॉरेंसिंक टीमें घटनास्थल पर जांच पड़ताल कर रही हैं। लखनऊ से भी फोरेंसिक टीम पहुंच गई है। अपराधी विकास के घर के चारों तरफ पुलिस तैनात है। गांव को पुलिस ने घेर रखा है। ऐसी जानकारी मिली है कि एक बदमाश को पुलिस ने मार गिराया है। अन्य बदमाश भी आस-पास के गांव में छिपे हैं। पुलिस और एसटीएफ की टीम बदमाशों से मोर्चा ले रही है। स्थानीय एसटीएफ की टीम घटनास्थल ऑपरेशन में शामिल हो चुकी है।

लखनऊ से एसटीएफ के आईजी को भी रवाना कर दिया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी और इस मामले की रिपोर्ट  मांगी है। थोड़ी देर पहले अपर पुलिस महानिदेशक कानपुर जोन जय नारायन सिंह ने बताया कि चार और पुलिसकर्मियों की हालत नाजुक है। अपने अधिकारियों और साथियों की शहादत से पुलिस टीम इस ऑपरेशन में अपनी पूरी ताकत से जुटी हुई है। उनकी शाहदत का बदला लेने के लिए गुरुवार आधी रात के बाद से ही चौबेपुर स्थित विकास दुबे के गांव बिकरू में भारी पुलिस फोर्स तैनात है। आस-पास के कई गांव तक पुलिस घुस चुकी है। पुलिस का अनुमान है कि बदमाश आस-पास के गांवों में ही छिपे हैं। कानपुर शहर के अलावा आस-पास के कई जिलों की भी फोर्स बुलाई गई है। घटनास्थल पर अभी मुठभेड़ चलने की खबर के बीच समाजवादी पार्टी की तरफ से ट्वीट कर कहा गया कि ‘रोगी सरकार’ के जंगलराज में ‘हत्या प्रदेश’ बने उप्र के कानपुर में दबिश के दौरान सत्ता संरक्षित अपराधियों द्वारा हमले में CO समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हुए हैं और अत्यंत दुख व्यक्त किया है। भगवान से शहीद पुलिसकर्मियों की आत्मा को शांति की प्रार्थना की है। शोकाकुल परिजनों के प्रति संवेदना! 1-1 करोड़ रुपए मुआवजे का एलान किया जाए। इस घटना में सत्ता कनेक्शन के पर्दाफाश करने की मांग की है। घर के अंदर और छतों से गोलियां चलाई गईं। इस बीच बिठूर एसओ कौशलेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि विकास और उसके 8, 10 साथियों ने पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। वे लोग ऊंचाई पर थे। उनको रात का भी फायदा मिला। उन्होंने बताया कि करीब साढ़े 12 बजे बिठूर और चौबेपुर पुलिस ने मिलकर विकास दुबे के गांव बिकरू में उसके घर पर दबिश दी थी।

इस मुठभेड़ में ये पुलिसकर्मी शहीद हुए-

1- देवेंद्र कुमार मिश्र (सीओ) बिल्हौर
2- महेश यादव (एसओ), शिवराजपुर
3- अनूप कुमार (चौकी इंचार्ज), मंधना
4- नेबूलाल (सब इंस्पेक्टर), शिवराजपुर
5- सुल्तान सिंह (कांस्टेबल), थाना चौबेपुर
6- राहुल (कांस्टेबल), बिठूर
7- जितेंद्र (कांस्टेबल), बिठूर
8- बबलू (कांस्टेबल), बिठूर
चित्र- हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे