काम न आई पुलिस सख्ती, चल पड़ी महिला शक्ति

कल्याण का खड़े-गोलिवली इलाका बीते कुछ दिनों से गर्दुल्लों से परेशान था। स्थानीय लोगों ने इसके लिए पुलिस से कई बार शिकायत की लेकिन इनकी परेशानियां दिनों-दिन बढ़ती जा रही थीं। आखिरकार जब पुलिस की सख्ती काम न आई तो महिला शक्ति ने मोर्चा संभाल लिया। महिलाओं ने छापामार पद्धति से घेरकर ८ गर्दुल्लों को पकड़कर जेल की सलाखों तक पहुंचाया।
बता दें कि कल्याण के खड़े-गोलिवली परिसर के ७,००० नागरिक पिछले एक महीने से गर्दुल्लों के कारण परेशान थे। स्थानीय लोगों के अनुसार कुल २५ गर्दुल्लों का झुंड पिछले एक महीने से नागरिकों को सोने नहीं दे रहा था। गर्दुल्ले रात के वक्त नशे में धुत्त होकर उनके घरों के दरवाजा ठोकते थे तो कभी उनके घर के पतरों पर पत्थर पेंâकते थे। इन परेशानियों से हैरान लोगोेंं ने इसकी शिकायत कल्याण के कोलसेवाड़ी पुलिस थाने में दर्ज करवाई थी लेकिन पुलिस द्वारा केवल एक दिन परिसर में पेट्रोलिंग की गई, जिसके बाद गर्दुल्लों ने फिर से स्थानीय लोगों को परेशान करना शुरू कर दिया। जिसके बाद परिसर में रहनेवाली महिलाओं ने व्हॉट्सऐप पर एक ग्रुप बनाया और गर्दुल्लों को पकड़ने की योजना बनाई। रविवार की रात ३ बजे जैसे ही गर्दुल्लों की गाड़ी की आवाज सुनाई दी, सभी महिलाओं ने इकट्ठा होकर ८ गर्दुल्लों को पकड़कर पुलिस के हवाले किया। समाज सेवक मनोज माली ने बताया कि पिछले एक महीने से सैकड़ों परिवार परेशान थे। उन्होंने मुझसे मदद मांगी, जिसके बाद हमने आरोपियों को पकड़ा और पुलिस के हवाले कर दिया। स्थानीय अल्का भोसले ने बताया कि रात के वक्त गर्दुल्ले हमारे दरवाजे जोर-जोर से पीटते थे, जिसके कारण दिल में डर-सा बन गया था। आखिरकार हम सभी महिलाओं ने उन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया है। कोलसेवाड़ी पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक कवी गावित ने बताया कि पुलिस द्वारा हर रात पेट्रोलिंग की जाती थी लेकिन गर्दुल्ले वहां से फरार हो जाते थे। पकड़े गए गर्दुल्लों से पूछताछ कर अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है।