" /> काशी में घूमने के लिए आने वाले 14 देशों के सैलानियों को पहले रहना होगा निगरानी वार्ड में

काशी में घूमने के लिए आने वाले 14 देशों के सैलानियों को पहले रहना होगा निगरानी वार्ड में

विश्व के लिए महामारी बन चुका कोरोनावायरस ने भारत में भी अपने पांव पसारने शुरू कर दिए हैं. Covid-19 को लेकर पूरे देश में अलर्ट घोषित कर दिया गया है. राजधानी दिल्ली, लखनऊ समेत कई शहरों में 22 मार्च तक स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं। वहीं धर्मनगरी काशी में विदेशी सैलानियों का आना-जाना कुछ ज्यादा ही है ऐसे में कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए व्यापक इंतजाम करते हुए स्वास्थ्य विभाग ने सरकार के निर्देशों के अनुपालन में निगरानी वार्ड बनाया है।

वाराणसी के इस निगरानी वार्ड में 14 देशों से आने वाले पर्यटकों को 14 दिन तक निगरानी में रखा जाएगा जिसके बाद ही उन्हें वाराणसी में घूमने की इजाजत मिलेगी। कोरोना वायरस से बचाव के लिए बनारस आने वाले पर्यटकों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। अभी तक भारत में जितने भी कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले सामने आए हैं वो सभी विदेश से आने वाले लोगों में ही पाए गए हैं। वाराणसी का निगरानी वार्ड विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा चिन्हित किए गए 14 देशों से आने वाले पर्यटकों के लिए बनाया गया है।

इन 14 देशों में मुख्य रूप से चीन, कोरिया, जापान, ईरान, इटली, हांगकांग, मकाउ, वियतनाम मलेशिया, इंडोनेशिया, नेपाल, सिंगापुर, थाईलैंड और ताइवान हैं। जहां से आने वाले पर्यटकों के लिए बाकायदा वाराणसी में रेलवे विभाग के प्रशिक्षण केंद्र व शिवपुर स्थित प्राथमिक अस्पताल में दो सौ से अधिक बिस्तर के वार्ड बनाये गए हैं। इलाज से लेकर रहने और खाने-पीने की पूरी व्यवस्था इन वार्डों में की गई है. क्योंकि इस वायरस से बचने का उपाय फिलहाल सिर्फ अहतियात है।