" /> काशी में जारी है कोरोना का तांडव,मृत्युदर में लखनऊ से चल रहा है आगे

काशी में जारी है कोरोना का तांडव,मृत्युदर में लखनऊ से चल रहा है आगे

धर्म एवं संस्कृति की राजधानी काशी में कोरोना का कहर इन दिनों जारी है। हालत यह कि यहां पर  कोरोना के कारण मौत होने की दर बढ़ी है। कोरोना से मौत के मामले में बनारस ने नोएडा-गाजियाबाद और लखनऊ को भी पछाड़ दिया है। उत्तर प्रदेश कोरोना के सबसे ज्यादा संक्रमितों के मामले में लखनऊ है लेकिन वहां संक्रमण  मृत्यु दर अब भी 1.15 फीसद ही है। वहीं बनारस में मृत्यु दर 1.98 फीसदी है। बनारस से भी खराब स्थिति कानपुर की है, जहां 3.32 फीसदी मौत हो रही है। दूसरे नम्बर पर झांसी हैं, जहां 2.90 फीसदी लोग कोरोनो से मर रहे हैं।

बनारस में रविवार की सुबह तक 4456 कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं। वायरस की चपेट में आकर 79 लोग अब तक मौत की आगोश में समां चुके हैं। हालात ये है कि कोरोना से जिले में पिछले 15 दिनों से औसतन हर रोज तीन लोगों की मौत हो रही है। प्रदेश में टॉप-10 संक्रमित जिलों में बनारस छठे नंबर पर है। राज्य सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार कोरोना से मृत्यु दर के मामले में कानपुर पहले नंबर पर है। प्रदेश में सबसे ज्यादा संक्रमित लखनऊ में हैं। वहां पर करीब साढ़े 10 हजार लोग अब तक संक्रमित हो चुके हैं। इस हिसाब से वहां पर मृत्यु दर काफी कम है।

राज्य सरकार द्वारा जारी होने वाले आकड़े को अगर देखा जाए तो वाराणसी में अब तक 92 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आकड़े में अभी तक 79 लोगों की मौत हुई है। ऐसे में अगर राज्य सरकार के आंकड़े से संक्रमित होने वालों के मुकाबले मृत्यु दर 2.34 फीसदी है। वहीं जिले के आंकड़ों में मृत्यु दर देखी जाए तो यहां पर 1.98 फीसदी है। यानी जिले के हिसाब बनारस प्रदेश में छठे स्थान पर है। वहीं राज्य सरकार के आंकड़े को देखा जाए तो बनारस चैथे नंबर पर है।

बनारस में मृत्यु दर बढ़ने के कारण शासन-प्रशासन चिंतित हैं। मृत्यु दर को कम करने के लिए लखनऊ से भी पिछले दिनों एक टीम आई थी। टीम ने रणनीति बनाई है। वहीं ऑक्सीजन के मरीजों के लिए लेवल-2 और लेवल-3 अस्पताल में हाइटेक मशीनों की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई है। इसके साथ ही गंभीर मरीजों को चिह्नित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर सर्वे कर रहा है। इसमें चार श्रेणी में मरीजों को चिह्नित किया जा रहा है।