किशोर कुमार ने गाइड को हराया

इंसान जब किसी से शर्त लगाता है तो उसे पूरा विश्वास होता है कि इस शर्त में जीत उसी की होगी लेकिन दो लोगों के बीच लगनेवाली शर्त में एक की हार होती है और दूसरे की जीत। इसी तरह की एक शर्त दिल्ली के एक गाइड ने फिल्म अभिनेता किशोर कुमार के साथ लगाई।
एक बार किशोर कुमार अपने बेटे अमित कुमार को लेकर मुंबई से दिल्ली गए। वहां उन्होंने लाल किला देखने का मन बनाया। बाप-बेटे लाल किला पहुंचे। उन्होंने सोचा कि एक गाइड कर लें, जो लाल किले की सारी जानकारी उन्हें देगा। गाइड को बुलाया गया लेकिन उससे कोई मोल-भाव किए बिना वे लोग लाल किला देखने के लिए निकल पड़े। वो गाइड किशोर कुमार को बता रहा था कि यहां जो नक्काशी की गई है वो वजीर-ए-आजम शाहजहां के जमाने की है। यह दीवान-ए-आम है। यहां पर राजा का दरबार लगता था। राजा यहां बैठकर प्रजा को न्याय देते थे। महल के बीचों-बीच यह फौव्वारा है। यहां राजा सुबह-सुबह गार्डन की सैर करते थे। उसके बाद वो उन्हें महल के एक हिस्से में ले गया, जिसे उसने दीवान-ए-खास बताया। उसने कहा कि यहां रानी साहिबा रहा करती थीं। उनके बगल में कनीज यानी नौकरानियां रहा करती थीं। वो गाइड दिल्ली के लाल किले की एक-एक बात बताते जा रहा था, जिसे बाप-बेटे दोनों ध्यान से सुनते जा रहे थे। गाइड किशोर कुमार को लाल किले की एक-एक बारीकियां समझा रहा था। कई घंटे घूमने के बाद बाप-बेटे दोनों लाल किले से बाहर निकले। उस गाइड ने कहा कि मेरा मेहनताना १०० रुपए है। १०० रुपए की बात सुनकर किशोर कुमार ने कहा कि भाई ये तो बहुत ज्यादा है। हम तुम्हें सिर्फ ५० रुपए ही देंगे। फिल्म इंडस्ट्री में अपनी कंजूसी के लिए मशहूर किशोर कुमार ५० रुपए से ज्यादा देने के मूड में नहीं थे। उस गाइड ने कहा कि साहब हमने लाल किले की सभी चीजों सहित सारी जानकारियां आपको दी हैं। बारीक से बारीक बातें आपको बतार्इं। १०० रुपए तो देने ही होंगे। किशोर कुमार ने सोचा कि अब इसे वैâसे फंसाया जाए। उन्होंने कहा कि तुमने लाल किले की सभी बातें तो बतार्इं लेकिन एक बात बताना भूल गए। वो तो तुमने बताई ही नहीं। गाइड ने अपने दिमाग पर जोर देते हुए कहा कि भाई, मैंने सभी बातें बताई हैं। किशोर कुमार ने कहा कि एक बात भूल गए हो। इस भूली हुई बात पर दोनों में शर्त लग गई। किशोर कुमार ने कहा कि अगर तुम शर्त हार जाओगे तो १० रुपए से ज्यादा नहीं दूंगा। गाइड ने उनकी शर्त मान ली। तब किशोर कुमार ने गाइड से कहा कि तुमने लाल किले की सभी बातें बतार्इं लेकिन ये नहीं बताया कि शाहजहां शौच के लिए कहां जाते थे, उनका गुसलखाना कहां है? किशोर कुमार की इस बात पर गाइड शरमा गया और उसने अपनी हार स्वीकार कर ली। तब किशोर कुमार ने गाइड को ५० रुपए देते हुए कहा कि बिना सोचे-समझे किसी से शर्त मत लगाओ। किसी भी कस्टमर को लाल किले के अंदर ले जाने से पहले उससे मोल-भाव कर लिया करो।