" /> कुएं का पानी बदलेगा कहानी!

कुएं का पानी बदलेगा कहानी!

ठाणे स्टेशन को स्वच्छ करने और शौचालय में पानी के इस्तेमाल को लेकर मध्य रेलवे द्वारा हजारों लीटर पानी की खरीदारी की जाती है। पानी की खरीदारी करने के लिए मध्य रेलवे को भारी रकम भी अदा करनी पड़ती है। पानी और पैसों की बचत करने के लिए मध्य रेलवे ने ठाणे स्टेशन (पूर्व) में बने कुएं की मरम्मत कर उसके पानी का इस्तेमाल करने का निर्णय लिया है। इस निर्णय से पानी और मध्य रेलवे के पैसों की बचत होना निश्चित है। मतलब कुएं का पानी पूरी कहानी ही बदल देगा।
बता दें कि मध्य रेलवे का ठाणे स्टेशन बड़े स्टेशनों में से एक है। कुल १० प्लेटफार्मों के इस स्टेशन पर मौजूद शौचालय व प्लेटफार्मों की सफाई के लिए रोजाना हजारों लीटर पानी का इस्तेमाल किया जाता है। हजारों लीटर पानी के लिए मध्य रेलवे को लाखों रुपए भी अदा करना पड़ता था। ठाणे रेलवे स्टेशन (पूर्व) स्थित रेलवे के भूखंड पर एक कुआं कई वर्षों से बंद पड़ा है। पानी की कमी को पूरा करने और पैसों की बचत करने के लिए मध्य रेलवे ने कुएं की मरम्मत कर उसके पानी को इस्तेमाल करने का निर्णय लिया है। निर्णय के अनुसार कुएं की मरम्मत का कार्य शुरू कर दिया गया है। जल्द ही मरम्मतीकरण का कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा और उसके पानी का इस्तेमाल किया जाएगा।
पैसों और पानी की बचत
मध्य रेलवे द्वारा मिली जानकारी के आधार पर रोजाना ठाणे स्टेशन की सफाई के लिए १२ हजार लीटर से १५ हजार लीटर पानी का इस्तेमाल मध्य रेलवे द्वारा किया जाता है। कुएं की मरम्मत के बाद ५० प्रतिशत पानी की आपूर्ति कुएं द्वारा की जा सकेगी। इससे मध्य रेलवे का कुछ हद तक पैसा बचना निश्चित है।