" /> कैंसर पीड़ित के नाम पर फर्जी पास बनाकर लाए जा रहे प्रवासी, हरियाणा के एक ट्रैवल एजेंट ने बनाया पास

कैंसर पीड़ित के नाम पर फर्जी पास बनाकर लाए जा रहे प्रवासी, हरियाणा के एक ट्रैवल एजेंट ने बनाया पास

दिल्ली से कैंसर पीड़ित के नाम पर फर्जी पास बनवाकर प्रवासियों को उत्तराखंड लाने के एक मामले का खुलासा हुआ है। हरियाणा के एक ट्रैवल एजेंट ने भवाली आ रहे एक परिवार को लानेवाले चालक को यह पास सौंपा था।

बाजपुर बॉर्डर पर रैपिड जांच में चालक और कार सवार मां-बेटे कोरोना संक्रमित पाए गए। इसके बाद पास की जांच हुई तो वह भी फर्जी निकला। मामले में कारचालक और दो ट्रैवल एजेंट पर मुकदमा दर्ज किया गया है।
रविवार देर शाम बाजपुर के दोराहा-यूपी बॉर्डर पर दिल्ली से आ रही एक इनोवा कार को टीम ने रोका था। कार में चालक और एक परिवार के पांच सदस्य बैठे थे।

इन सभी की रैपिड किट से जांच की गयी तो चालक और कार सवार मां-बेटा कोरोना संक्रमित निकले थे। जानकारी पर इन सभी को अस्पताल पहुंचा दिया गया। उधर पूछताछ के दौरान कारचालक ने पुलिस को दिल्ली से जारी एक ट्रैवल पास दिखाया था। दोराहा चौकी प्रभारी बीजी गोस्वामी ने बताया कि पास में कार में कैंसर रोगी को ले जाने की जानकारी दी गई थी जबकि गाड़ी में कोई कैंसर रोगी नहीं था।
शक गहराने पर पास की जांच की गयी तो वह फर्जी निकला। गोस्वामी ने बताया कि कारचालक से सख्ती से पूछताछ की तो उसने बताया कि उसे यह पास हरियाणा की एक ट्रैवल एजेंसी चलानेवाले दो लोगों ने दिया था। बताया कि दिल्ली से आ रहे परिवार को भवाली तक पहुंचाने के लिए कार बुकिंग के 15 हजार और पास के एक हजार रुपए लिए गए थे।

चौकी प्रभारी ने बताया कि फर्जी पास बनवाने के आरोप में पुलिस ने चालक, टूर एंड ट्रैवल एजेंसी संचालक मेवात, हरियाणा और एक व्यक्ति फिरोजपुर, सिरसा  (हरियाणा) के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।