" /> कैंसर बना सितारों का काल : 2 दिनों में बॉलीवुड को लगे 2 झटके

कैंसर बना सितारों का काल : 2 दिनों में बॉलीवुड को लगे 2 झटके

कैंसर फिल्मी सितारों के लिए काल बनकर उभरा है। पिछले 2 दिनों में इसने बॉलीवुड को दो झटके दिए हैं। पहले इरफान खान और फिर ऋषि कपूर। इरफान तो एक दुर्लभ किस्म की कैंसर से पीड़ित थे। उन्होंने 53 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया। इरफान पिछले काफी समय से ट्यूमर और आंतों के इन्फेक्शन से जूझ रहे थे। खान की 2018 में कैंसर की बीमारी का इलाज भी हुआ था। वर्सेटाइल एक्टिंग और डायलॉग डिलिवरी के लिए दुनियाभर में पहचाने जानेवाले इरफान खान ने बुधवार को मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में अपनी आखिरी सांसे ली थी। इरफान खान ने अपने फैन्स को ट्वीट कर बताया था कि वो न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से पीड़ित हैं।
न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर हार्मोन्स बनानेवाली ग्रांथियों से संबंधित कैंसर होता है। इस कैंसर का यदि समय रहते पता चल जाए तो इसका इलाज संभव हो सकता है। न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर को बेहद दुर्लभ बताया जाता है जो शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है। अधिकांश न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर फेफड़े,अपेंडिक्स, छोटी आंत, रेक्टम और अग्नाशय में होते हैं। लेकिन यह बिना कैंसर के भी हो सकते हैं। इस ट्यूमर से पीड़ित व्यक्तियों में कुछ खास तरह के लक्षण नजर आने लगते हैं। इससे पीड़ित व्यक्ति में हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत के साथ, एंग्जाइटी अटैक, बुखार, सिरदर्द, अधिक पसीना आना, मितली, उल्टी, दिल की धड़कनों का अनियंत्रित तरीके से धड़कना आदि जैसे लक्षण दिखाई देने लगते हैं। इसी तरह ऋषि कपूर के बारे में बताया जाता है कि उनमें मज्जा का प्रत्यारोपण किया गया था। मज्जा हड्डी के भीतर होता है और इसके खराब हो जाने से रक्त के निर्माण में समस्या पैदा हो जाती है। ये भी काफी खतरनाक किस्म का कैंसर होता है। इसके पहले अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे भी कैंसर की शिकार हुई थी और अमेरिका में उनका इलाज हुआ था। उन्होंने कैंसर को पराजित किया और स्वस्थ होकर वापस आ गई। इसके पूर्व अभिनेत्री मनीषा कोइराला को भी कैंसर हुआ और उन्होंने भी इस बीमारी को परास्त किया था।