" /> कैच टपकाने वाला बाजीगर

कैच टपकाने वाला बाजीगर

जरूरी नहीं कि कैच पकड़ने वाला ही बाजीगर कहलाए। वैâच छोड़ देने वाला भी बाजीगर होता है। जी हां, बात आंजिक्य रहाणे की है जो बल्लेबाजी में पूरी तरह से फेल हो गए हैं फिर भी फील्डिंग की चुस्ती फूर्ति ने उन्हें बाजीगर का तोहफा दिया है। दरअसल, क्षेत्ररक्षण के दौरान उन्होंने ऐसा कारनामा किया, जिससे उनकी टीम की जीत राह प्रशस्त हुई। अजिंक्य रहाणे दुबई के दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में राजस्थान के खिलाफ मैच में बाउंड्री पर वैâच पकड़ने में सफल नहीं हुए, लेकिन उन्होंने चपलता दिखाते हुए राहुल तेवतिया के छक्के के शॉट को महज एक रन में तब्दील कर दिया। राजस्थान को आखिरी ओवर में जीत के लिए २२ रन बनाने थे। राहुल तेवतिया स्ट्राइक पर थे। राहुल तेवतिया ने लॉन्ग ऑफ के ऊपर से छक्के के लिए मारा। वह अपनी कोशिश में लगभग सफल ही हो गए थे, लेकिन रहाणे दीवार बन गए। उन्होंने राहुल का वैâच पकड़ने के लिए ऊंची छलांग लगाई। उन्होंने गेंद पकड़ ली, लेकिन बैलेंस नहीं बना पाए। रहाणे को लगा कि वह गिर जाएंगे और बाउंड्री से छू जाएंगे। ऐसे में रहाणे ने तुरंत गेंद को अंदर की ओर फेंक दिया। वह बाउंड्री के पार गिए, लेकिन तुरंत उठे और गेंद को फील्ड कर वापस विकेटकीपर के पास पहुंचा दिया। और यही कारनामा उन्हें बाजीगर बना गया।