" /> कोरोना का कहर : शौचालय में महिला की हुई डिलिवरी!

कोरोना का कहर : शौचालय में महिला की हुई डिलिवरी!

निजी अस्पतालों ने भी किया था निराश!
कोरोना संकट के कारण पूरी दुनिया में कोहराम मचा है। कोरोना की संक्रामकता एवं लगातार बढ़ी मरीजों की संख्या को देखते हुए मनपा अस्पतालों में कोरोना के मरीजों के इलाज को प्राथमिकता दी जा रही है। वहीं दूसरी ओर कोरोना की चपेट में आनेवाले डॉक्टरों एवं अन्य चिकित्साकर्मियों की बढ़ती संख्या से निजी अस्पताल-नर्सिंगहोम आदि के संचालकों में घबराहट का माहौल है। इसका खामियाजा गैरकोरोना रोगियों खासकर गर्भवती महिलाओं को भुगतना पड़ रहा है। इसका उदाहरण मानखुर्द में देखने को मिला, जहां एक गर्भवती महिला के बच्चे का जन्म शौचालय में हुआ। लॉक डाउन से परेशान उक्त गर्भवती महिला ने प्रसूती के लिए कई निजी अस्पतालों के साथ-साथ मनपा अस्पतालों के चक्कर काटे लेकिन उसे कहीं भी कोई मदद न मिली। अंतत: उक्त महिला ने मानखुर्द के शौचालय में एक बच्चे को जन्म दिया है।
बता दें कि विद्या विहार-पूर्व के राजावाड़ी व गोवंडी के शताब्दी अस्पताल में लगभग पूरी तरह केवल कोविड-19 के लिए आरक्षित कर दिया गया है। राजावाड़ी अस्पताल में करीब एक सप्ताह से सभी प्रकार की ओपीडी भी बंद है। कुछ ऐसी ही अवस्था गोवंडी के शताब्दी अस्पताल की भी है। इसके अलावा गोवंडी, शिवाजी नगर, मानखुर्द, घाटकोपर, चेंबूर जैसे इलाकों के कुछ निजी अस्पतालों ने कोरोना संकट के डर से अपनी सेवाएं बंद कर दी हैं। अधिकतर निजी डॉक्टर भी अपने क्लीनिक को बंद रखे हुए हैं, जिसके चलते आम जनता को भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। बताया जाता है कि इसी बीच प्रसव पीड़ा से परेशान एक 23 वर्षीय महिला पिछले दो दिन से अस्पतालों के चक्कर लगा रही थी। उसके परिजनों ने कई जगह हाथ-पैर मारे लेकिन कहीं भी कोई सुविधा उसे नहीं मिल सकी। मानखुर्द महाराष्ट्र नगर बस्ती में रहनेवाली उक्त महिला को कल अचानक प्रसव पीड़ा असह्य हो गई। शौच के कारण ऐसा हो रहा होगा ऐसा सोचकर पीड़िता शौचलय में गई, जहां उसने एक बालक को जन्म दिया है। बालक के जन्म के बाद लोग वहां जमा हुए और उसकी मदद के लिए 108 नंबर पर उन्होंने कॉल किया लेकिन घंटों बीत जाने के बाद भी 108 नंबर की एंबुलेंस सेवा उपलब्ध नहीं हुई। अंत में उसके परिजन हार मानकर रिक्शे में उस महिला व बच्चे को अस्पताल पहुंचाया, जहां उन दोनों की हालत ठीक बताई जाती है।