" /> कोरोना का बढ़ता खतरा : संक्रमण रोकने के लिए मशीन से होगी सार्वजनिक शौचालयों की सफाई!

कोरोना का बढ़ता खतरा : संक्रमण रोकने के लिए मशीन से होगी सार्वजनिक शौचालयों की सफाई!

उल्हासनगर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए उमपा के सफाई विभाग में आयुक्त के आदेश पर दो ऐसी मशीनें लाई गई हैं, जो सार्वजनिक शौचालय की रसायन के साथ ऐसी सफाई करेगी कि उस जगह को एक माह तक सफाई व निर्जंतुकरण की जरूरत नहीं पड़ेगी। उल्हासनगर मनपा के आयुक्त समीर उन्हाले ने मुंबई में सफाई की तर्ज पर 2 सैनिटाइजर व झोनो सैनिटाइजर मशीन मंगवाई हैं। इस मशीन की सफाई इतनी बेहतर है कि एक माह तक पुनः सफाई के साथ-साथ न निर्जंतुकरण  की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

बता दें कि आज तक उमपा का सफाई विभाग शौचालय की सफाई के लिए सफाई कर्मचारियों से झाड़ू, फिनायल आदि तरह के रसायन का प्रयोग कराता था। पर अब इस कंप्रेशर मशीन से सफाई के साथ-साथ अपने आप ही सैनिटाइज भी होगा। इससे कम समय में अधिक मात्रा में काम होगा।
मुख्य सफाई निरीक्षक विनोद केने ने बताया कि इस मशीन से कोरोना युक्त परिसर के शौचालय की बेहतर सफाई होगी। आज वरिष्ठ अधिकारी वर्ग की मान्यता है कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण के लिए सार्वजनिक शौचालय कारक हो सकता है? उल्हासनगर में 497 के करीब कोरोना मरीज हो चुके हैं, उनमें से 256 के करीब लोगों ने कोरोना पर विजय पाई है। सम्राट अशोक नगर, खन्ना कंपाउंड, चोपड़ा कोर्ट आदि परिसर जो कोरोना के हॉटस्पॉट बने है। यहां के लोग सार्वजनिक शौचालय का प्रयोग करते है। इतना ही नहीं, इन दिनों कोरोना केयर सेंटर में साफ-सफाई के लिए सफाई कर्मचारियों की कमी यह मशीन पूरी करेगी। झुनो सरफेस सैनिटाइजर द्रव्य यह कोरोना वायरस पर कारगर साबित हुआ है। इसका असर 30 दिन तक रहता है।
सफाई विभाग ने रविवार से मशीन के महत्व को लीलाबाई आसान (महापौर),  भगवान भालेराव (उपमहापौर), राजेंद्र चौधरी (सभागृह नेता), राजेश बदरिया (स्थायी समिति सभापति) व किशोर बनवारी (विरोधी पक्ष नेता)  आदि को बताकर उनके मार्गदर्शन में शौचालय सफाई का काम शुरू किया गया।