" /> कोरोना का मेडिक्लेम रु. ९०० करोड़!, मरीज कर रहे हैं बीमा कंपनियों में आवेदन

कोरोना का मेडिक्लेम रु. ९०० करोड़!, मरीज कर रहे हैं बीमा कंपनियों में आवेदन

देश में कोरोना वायरस जितनी तेजी से बढ़ा है, उतनी ही तेजी से कोरोना से प्रभावित मरीजों का मेडिक्लेम भी बढ़ रहा है। कोरोना मरीजों ने अपने उपचार में खर्च हुए पैसों का क्लेम विभिन्न बीमा कंपनियों से किया है। जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र में अब तक कुल ७० हजार कोरोना मरीजों ने करीब ९०० करोड़ रुपए का क्लेम विभिन्न बीमा कंपनियों से किया है।
जनरल इंश्योरेंस काउंसिल द्वारा मिली जानकारी के अनुसार ३१ अगस्त तक पूरे हिंदुस्थान से कुल १ लाख ७९ हजार लोगों ने उपचार के पैसे वापस पाने के लिए क्लेम किया है, जिसकी कुल राशि २,७०० करोड़ रुपए बताई जा रही है। इनमें से १ लाख १० हजार मरीजों को १,००० करोड़ रुपए अदा की जा चुकी है जबकि शेष लोगों का क्लेम प्रकिया अंतर्गत है, जल्द ही उन्हें उपचार के पैसे वापस मिल जाएंगे। खर्डी के रहनेवाले सूर्यकांत जाधव (५३) ने बताया कि कोरोना उपचार के दौरान हुए खर्च की वापसी के लिए मैंने अपनी बीमा कंपनी से क्लेम किया था। मेरे मेडिक्लेम के आवेदन पर कंपनी ने कार्यवाही की और जांच-पड़ताल के बाद ३-४ सप्ताह के भीतर उपचार में खर्च हुए पैसे कंपनी ने मुझे लौटा दिए।
७५ फीसदी क्लेम मुंबई-ठाणे और पुणे से
मिली जानकारी के अनुसार मुंबई से २१,५००, पुणे से १५,८०० व ठाणे से ८,५०० मरीजों ने उपचार की रकम वापस पाने के लिए क्लेम किया है।
१५ लाख लोगों ने ली कोरोना पॉलिसी
कोरोना मरीजों पर उपचार के दौरान आर्थिक भार न पड़े इसलिए इंश्योरेंस रेग्युलेटरी अथोरिटी ऑफ इंडिया (आईआरडीएआई) के निर्देशानुसार बीमा कंपनियों ने कोरोना कवच व कोरोना रक्षक नामक दो पॉलिसी बाजार में लाई थी। डेढ़ महीने में अब तक कुल १५ लाख लोगों ने इस पॉलिसी का लाभ उठाया है। इस पॉलिसी के तहत ३,००० रुपए तक का प्रीमियम भर कर पांच लाख रुपए का बीमा कवच मिलता है।